Follow Us On Goggle News

Education Loan लेने से पहले पेरेंट्स इन बातों का रखें ध्यान, नहीं तो बच्चे को उठाना पड़ सकता है भारी नुकसान.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Education Loan Interest Rate: एजुकेशन लोन के कुछ फायदे हैं तो कुछ बातों को भी माता-पिता को ध्यान में रखना होगा. दरअसल, बैंक उन्हीं को एजुकेशन लोन देता है जिन्हें बैंक डिजर्विंग पाता है.

 

 

Education Loan Scheme: शिक्षा का महत्व हर कोई जानता है. ऐसा कहा जाता है कि एक शिक्षित व्यक्ति ही समाज में बदलाव ला सकता है. शिक्षा के जरिए ही लोग आसमान की ऊंचाईयों को छू सकते हैं. वहीं शिक्षा के क्षेत्र में लगातार क्रांति भी देखने को मिल रही है. वर्तमान में सरकार की ओर से भी लोगों को शिक्षित करने के लिए कई कदम उठाए जा रहे हैं. हालांकि आज के दौर में उच्च शिक्षा काफी महंगी हो चुकी है लेकिन लोगों को आज एजुकेशन लोन भी मिल जाता है. जिसके कारण छात्र अपनी आगे की एजुकेशन पूरी कर सकते हैं.

 

मिल जाता है लोन :

हर कोई बढ़िया एजुकेशन चाहता है. हालांकि अलग-अलग क्षेत्र से जुड़ी शिक्षा हासिल करने के लिए उसकी फीस भी चुकानी होती है लेकिन कई बार लोगों के पास फीस चुकाने के भी पैसे नहीं होते हैं जिसके कारण लोगों को इधर-उधर से उधार मांगकर या बैंकों से एजुकेशन लोन लेकर आगे की पढ़ाई करनी होती है. हालांकि एजुकेशन लोन के कुछ फायदे हैं तो कुछ बातों का बच्चे के माता-पिता को ध्यान में रखना चाहिए.

यह भी पढ़ें :  IOCL Recruitment 2021: इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड में निकली भर्ती, उम्मीदवार 27 दिसंबर 2021 तक कर सकते हैं आवेदन.

 

 

फायदे :

एजुकेशन पूरी की जा सकती है.
लोन आसानी से मिल सकता है.
कई ट्रेनिंग और स्पेशल कोर्स के लिए भी मिलता है एजुकेशन लोन.
बाकी लोन की तुलना में एजुकेशन लोन की ब्याज दर होती है कम.

 

इनका ध्यान रखें :

एजुकेशन लोन के कुछ फायदे हैं तो कुछ बातों को भी माता-पिता को ध्यान में रखना होगा. दरअसल, बैंक उन्हीं को एजुकेशन लोन देता है जिन्हें बैंक डिजर्विंग पाता है. ऐसे में एजुकेशन लोन के लिए एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया को पूरा करना होता है. एलिजिबिलिटी क्राइटेरिया के बाद लोन मिल जाता है लेकिन बच्चे पर हमेशा ही लोन को वापस चुकाने का प्रेशर जरूर रहता है.

 

तनाव न हो :

ऐसे में माता-पिता को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि शिक्षा के साथ-साथ या बाद में बच्चा लोन चुकाने को लेकर मानसिक तनाव न ले. ऐसे में बच्चे का फोकस भी डायवर्ट हो सकता है. अगर माता-पिता इस बात को इग्नोर करेंगे तो हो सकता है बच्चे को इसका नुकसान उठाना पड़े.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page