Follow Us On Goggle News

Secret of Indian Rupees : नोट बनाने में नहीं होता रत्ती भर कागज का इस्तेमाल, क्या आप जानते हैं किस चीज से बनता है ये.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Secret of Indian Rupees : हममें से कई लोगों को यह नहीं पता होगा कि नोट बनाने में रत्ती भर कागज का इस्तेमाल नहीं होता है. ज्यादातर लोगों को लगता है कि नोट कागज से बनता है, तो हम आपको बता दें कि आपकी जानकारी बिल्कुल गलत है.

Secret of Indian Rupees : सुबह उठने से लेकर रात को सोने तक अगर किसी चीज से हमारा जीवन चलता है तो वह पैसा है. बिना पैसे के जीवन चलना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन भी है. हमें कुछ खरीदना हो, कहीं आने-जाने के लिए किराया देना हो या फिर कोई भी काम करना है, रुपया सबसे अहम चीज है. आपने अक्सर देखा होगा कि कई बार नोट हमसे भीग जाते हैं, इसके बाद भी वह खराब नहीं होते और हम उन्हें फिर से इस्तेमाल कर पाते हैं.

नोट बनाने के लिए नहीं होता कागज का इस्तेमाल :

यह भी पढ़ें :  Petrol Diesel Price in Bihar : बिहार में आज फिर बढे पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए क्या है आज आपके शहर में रेट.

हममें से कई लोगों को यह नहीं पता होगा कि नोट बनाने में रत्ती भर कागज का इस्तेमाल नहीं होता है. ज्यादातर लोगों को लगता है कि नोट कागज से बनता है, तो हम आपको बता दें कि आपकी जानकारी बिल्कुल गलत है. नोट बनाने के लिए कागज का नहीं बल्कि कपास का इस्तेमाल किया जाता है. दरअसल, कागज का इस्तेमाल करने से नोट लंबे समय तक नहीं चलेंगे और जल्दी से फट जाएंगे लेकिन कपास का इस्तेमाल करने से यह काफी लंबे समय तक चलते हैं. इस कारण नोट बनाने में सौ प्रतिशत कपास का ही इस्तेमाल किया जाता है.

दुनियाभर के नोटों में कपास का इस्तेमाल :

इसके अलावा कागज के नोट की तुलना में कपास के नोट ज्यादा मजबूत होते हैं. ना सिर्फ भारत में बल्कि दुनियाभर के कई देशों में नोट बनाने के लिए कपास का ही इस्तेमाल होता है. बता दें कि कपास के रेशे में लेनिन नाम का एक फाइबर होता है. जब नोट बनाया जाता है तो कपास के अलावा आधेसिवेस सोलुशन तथा गैटलिन का इस्तेमाल किया जाता है. इस कारण नोटों की उम्र लंबी होती है.

यह भी पढ़ें :  Rules Changing Form Sep1st : LPG सिलेंडर से लेकर आधार कार्ड और पीएफ तक, 1 सितंबर से बदल रहे ये नियम, देखिए लिस्ट.

RBI को नोट जारी करने का अधिकार :

क्या आप जानते हैं कि हमारे देश में नोट जारी का करने का अधिकार सिर्फ और सिर्फ RBI के पास है. उसे यह अधिकार अधिनियम की धारा 22 के तहत मिला हुआ है. भारत में बनने वाले नोटों में सिक्योरिटी फीचर दिए जाते हैं. जालसाजी और नकली नोटों पर लगाम लगाने के लिए ये सिक्योरिटी फीचर होते हैं. इसी कारण समय-समय पर भारतीय नोटों में बदलाव होता रहता है.


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page