Follow Us On Goggle News

Cyber Attack : बड़ी खबर ! इस वायरस के निशाने पर मोबाइल बैंकिंग, बैंकों ने किया सतर्क, जानिए कैसे करें बचाव.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Cyber Attack on Mobile Banking : एचडीएफसी बैंक, आईडीबीआई बैंक और करूर वैश्य बैंक सहित तमाम बैंकों ने अपने ग्राहकों को इस वायरस के बारे में सचेत किया है. थोड़ी सी सावधानी के साथ इस वायरस से बचा जा सकता है.

 

Cyber Fraud Alert : भारतीय बैंकों के कस्टमर्स के ऊपर एक बड़ा खतरा मंडरा रहा है. इसलिए अधिकांश बैंकों ने अपने ग्राहकों को सतर्क रहने को कहा है. बैंकों ने ग्राहकों से कहा है कि वे ऑफिशियल ऐप स्टोर के अलावा कहीं ओर से भी ऐप को डाउनलोड करने से बचें. इंडियन कम्प्यूटर इमरजेंसी रेस्पॉन्स टीम यानी CERT-in ने कहा है कि भारतीय बैंक के ग्राहकों को नए सोवा एंड्रॉयड ट्रोजन के जरिये निशाना बनाया जा रहा है. इसमें मोबाइल बैंकिंग को लक्ष्य किया जा रहा है. इस मालवेयर का नया संस्करण यूजर्स को धोखा देने के लिए नकली एंड्रॉयड एप्लिकेशन के साथ छिपता है. इसके बाद यह क्रोम, अमेजन, एनएफटी जैसे लोकप्रिय ऐप के लोगो के साथ दिखाई देता है…… जिससे लोग धोखा खा जाते हैं. इससे बचने का एक ही उपाय है कि यूजर्स केवल आधिकारिक ऐप स्टोर से ही किसी ऐप को डाउनलोड करें.

यह भी पढ़ें :  Russia-Ukraine War के बीच रुपये में डॉलर के मुकाबले 102 पैसे की गिरावट, जानिए कहां पहुंच गई भारतीय करेंसी.

 

 

वायरस हटाना है मुश्किल :

अगर ये मालवेयर एक बार फोन में आ जाता है…. तब इसे हटाना मुश्किल होता है….. जब यूजर अपने नेट बैंकिंग ऐप को लॉगइन करके बैंक अकाउंट को एक्सेस करता है….. तब ये मालवेयर यूजर के क्रेडेंशियल को कैप्चर कर लेता है… सोवा ट्रोजन का नया वर्जन बैंकिंग ऐप्स और क्रिप्टो वॉलेट समेत 200 से ज्यादा मोबाइल एप्लीकेशंस को टार्गेट करता है. एचडीएफसी बैंक, आईडीबीआई बैंक और करूर वैश्य बैंक सहित तमाम बैंकों ने अपने ग्राहकों को इस मालवेयर के बारे में सचेत किया है…. अन्य तमाम बैंक भी ग्राहकों को अलर्ट भेजने की योजना बना रहे हैं.. एचडीएफसी बैंक के चीफ इंफोर्मेशन सिक्यूटिरी ऑफिसर समीर रातोलिकर का कहना है कि इस मालवेयर से सुरक्षित रहने के लिए कई तरह के सुझाव कस्टमर्स को दिए गए हैं….इसमें प्रमुख हैं कि यूजर किसी भी थर्ड पार्टी वेबसाइट से ऐप्स को डाउनलोड बिल्कुल न करें…… इसके अलावा यूजर्स लेटेस्ट पैच के साथ अपने एंड्रॉयड डिवाइस को नियमित तौर पर अपडेट करते रहें….. इसके अलावा सबसे अहम बात है कि यूजर्स किसी भी अविश्वसनीय वेबसाइट पर विजिट न करें और किसी भी संदेहजनक लिंक पर भूल कर भी क्लिक न करें……

यह भी पढ़ें :  RBI ने छोटा कर्ज देने वाली कंपनियों पर कसा शिकंजा, मनमाना ब्याज लेने पर लगाई रोक.

 

 

थोड़ी सावधानी से होगी सुरक्षा :

इस मालवेयर को एसएमएस के जरिये भेजा जाता है. मोबाइल फोन में जैसे ही ये फेक ऐप इंस्टॉल होता है. ये फोन में पहले से डाउनलोड सभी ऐप्स को कॉपी कर लेता है और फाइनेंशियल एप्लीकेशन को अपना टार्गेट बनाता है. इसलिए लोगों को सलाह दी गई है कि एंड्रॉयड डिवाइस पर कोई एप्लीकेशन डाउनलोड करने से पहले उस ऐप की सारी डिटेल्स को ध्यान से रिव्यू करें. उसके डाउनलोड नंबर को देखें. यूजर्स का रिव्यू पढ़ें. उनके कमेंट्स देखें और एडिशनल इंफोर्मेशन सेक्शन में जरूर झांके. ये मालवेयर कीस्ट्रॉक्स को कलेक्ट करने, कुकीज को चुराने, मल्टीफैक्टर ऑथेंटिकेशन को इंटरसेप्ट करने, स्क्रीनशॉट लेने और वेबकैम से रिकॉर्डिंग करने में सक्षम है. ये ऐप आपके मोबाइल को एन्क्रिप्ट कर सकता है. और संवेदनशील ग्राहक डेटा को खतरे में डाल सकता है और साथ ही बड़े पैमाने पर आपके साथ वित्तीय धोखाधड़ी भी कर सकता है. बैंकों ने अपने ग्राहकों से कहा है कि बैंक खाते में किसी भी असामान्य गतिविधि होने पर इसकी जानकारी अपने बैंक को तुरंत दें ताकि इस पर आगे उचित कार्रवाई की जा सके. इसके अलावा बैंकों ने अपने सभी ग्राहकों से अपने मोबाइल फोन में एंटी-वायरस और एंटीस्पाइवेयर सॉफ्टवेयर इंस्टॉल करने की भी सलाह दी है..

यह भी पढ़ें :  Sovereign Gold Bond : सोमवार से गोल्ड बॉन्ड योजना में निवेश का मौका, पढ़ें स्कीम से जुड़ी सभी खास बातें.

 

पूरी जानकारी के लिए देखिये वीडियो :

 

 

( source: money9.com)


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page