Follow Us On Goggle News

Dak Mitra Seva: CSC चलाने वाले अब कर सकेंगे Post Office का यह काम, पोस्ट ऑफिस की लम्बी लाइन में लगने से मिलेगा छूटकारा

इस पोस्ट को शेयर करें :

Dak Mitra Seva: केंद्र सरकार (Central Government) के दो विभागों में एक करार हुआ है। इससे ग्रामीण अर्थव्यवस्था (Rural Economy) को फायदा होगा। यह करार कॉमन सर्विस सेंटर (Common Service Centre) और डाक विभाग का है। बताया जा रहा है कि इस सेवा से मुख्य रूप से ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को लाभ होगा। इससे ग्रामीण क्षेत्रों में डाक विभाग (Post Office) का कारोबार भी बढ़ेगा। लोगों को पार्सल (Parcel) और स्पीड पोस्ट बुक कराने (Speed Post Booking) के लिए दूरदराज के क्षेत्रों तक जाने की जरूरत नहीं रहेगी।

 

Dak Mitra Seva: सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय (IT Ministry) के निकाय कॉमन सर्विस सेंटर (Common Service Centre) ने डाक विभाग (Department of Post) के साथ एक करार किया है। इसके तहत कॉमन सर्विस सेंटर डाक मित्र सेवा (Dak Mitra Seva) शुरू करेगा। योजना के तहत कॉमन सर्विस सेंटर (CSC) के ग्राम स्तरीय उद्यमी अपने क्षेत्रों में स्पीड पोस्ट और रजिस्टर्ड पार्सल की बुकिंग करेंगे। इसके लिए कॉमन सर्विस सेंटर के सेंट्रलाइज डिस्टल सेवा पोर्टल का उपयोग किया जाएगा।

यह भी पढ़ें :  LPG Price Hike: एलपीजी ग्राहकों के लिए तगड़ा झटका! अप्रैल 2022 से दोगुनी हो सकती है रसोई गैस की कीमत.

 

CSC में ही बुक करा सकेंगे स्पीड पोस्ट

इस व्यवस्था के तहत गांवों में स्थित सीएससी में ही स्पीड पोस्ट और रजिस्टर्ड पार्सल की बुकिंग करेंगे। बुकिंग के बाद स्पीड पोस्ट और पार्सल को नजदीक के डाक कार्यालय में कॉमन सर्विस सेंटर के ग्रामीण उद्यमी ही पहुंचाएंगे। इससे दूरदराज के क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को स्पीड पोस्ट और पार्सल बुक कराने के लिए दूरदराज के कस्बों और शहरों में जाने की जरूरत नहीं रहेगी। वह देश भर में फैले 4.5 लाख से अधिक कॉमन सर्विस सेंटर में जाकर भी अपना पार्सल और स्पीड पोस्ट बुक करा पाएंगे।

ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को होगा फायदा

कॉमन सर्विस सेंटर के प्रबंध निदेशक दिनेश त्यागी ने हमसे बातचीत में बताया कि इस सेवा से मुख्य रूप से ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को लाभ होगा।इससे ग्रामीण क्षेत्रों में डाक विभाग का कारोबार भी बढ़ेगा। लोगों को पार्सल और स्पीड पोस्ट बुक कराने के लिए दूरदराज के क्षेत्रों तक जाने की जरूरत नहीं रहेगी। उन्होंने कहा कि यह करार कॉमन सर्विस सेंटर और भारतीय डाक, दोनों के लिए लाभकारी है। इससे ना केवल डाक मित्र सेवा की लोकप्रियता बढ़ेगी बल्कि ग्रामीण क्षेत्रों में लॉजिस्टिक कारोबार में भी गति आएगी। इससे ग्राम स्तर पर कॉमन सर्विस सेंटर चलाने वाले उद्यमियों को भी आय का एक नया माध्यम हासिल होगा। जबकि इनके माध्यम से बुक होने वाले अतिरिक्त पार्सल और स्पीड पोस्ट के रूप में डाक विभाग की आय भी बढ़ेगी।

यह भी पढ़ें :  Post Office Franchise: केवल 5000 रुपए से शुरू करें Post Office का बिजनेस, हर महीने होगी इतनी कमाई.

सेल्फ हेल्प ग्रुप को भी मिलेगा बढ़ाबा

उन्होंने कहा कि यह योजना ग्रामीण क्षेत्रों में स्वयं सहायता समूह और सूक्ष्म – लघु – मध्यम उद्योगों को भी गति प्रदान करेगा। वह अपने सामान को विभिन्न प्लेटफार्म पर इसके माध्यम से बेचने की प्रक्रिया को गति दे पाएंगे।त्यागी ने कहा कि कॉमन सर्विस सेंटर चलाने वाले सभी ग्रामीण उद्यमी लोगों को उनके सामान की पैकिंग में भी सहायता करेंगे। उन्होंने डाक मित्र सेवा को एक गेम चेंजर करार देते हुए कहा कि यह सरकार के ग्राम स्वराज और आत्मनिर्भर भारत की परिकल्पना को साकार करने वाला कदम साबित होगा।


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page