Follow Us On Goggle News

Sarkari Yojana 2022 : युवाओं के लिए बड़ी खुशखबरी ! उद्योग लगाने के लिए नितीश सरकार दे रही 10 लाख रुपए, यहाँ करें आवेदन.

इस पोस्ट को शेयर करें :

 

हाइलाइट्स:
बिहार में उद्योग को बढ़ावा देने के लिए नीतीश सरकार ने राज्य में शुरू की योजनाएं.
बिहार में युवा उद्यमी योजना और महिला उद्यमी योजना का हुआ शुभारंभ.
इच्छुक अभ्यर्थी http://www.udhyog.bihar.gov.in पर कर सकते हैं ऑनलाइन आवेदन.

 

Sarkari Yojana 2022 : बिहार के युवाओं के लिए अच्छी खबर है। नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना (Mukhyamantri Yuva Udyami Yojna) का विस्तार किया है। सबसे पहले इस योजना को अनुसूचित जाति/जनजाति के लिए लॉन्च किया गया था। बाद में इसमें अतिपिछड़ा को भी जोड़ा गया। अब सरकार ने इस योजना के दरवाजे सामान्य और पिछड़ा वर्ग के लिए भी खोल दिए।

योजनाओं के बारे में जानकारी देते हुए उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने बताया कि मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना में राज्य के ट्रांसजेंडर्स को समान लाभ दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि राज्य की सभी महिलाएं मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना का लाभ उठा सकती हैं। इसके लिए जरूरी पात्रता और शर्तों को पूरा करना होगा।

योजना का लाभ उठाने के लिए पूरी करनी होंगी ये शर्तें : मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना के लिए शैक्षिक पात्रता कम से कम 10+2 या इंटरमीडिएट, आईटीआई, पॉलिटेक्निक डिप्लोमा या समकक्ष उत्तीर्ण होना चाहिए। जबकि आयु सीमा 18 से 50 वर्ष के बीच होने होनी चाहिए। साथ ही जिस फर्म के जरिए अपना उद्यम चलाना चाहते हैं वो इकाई प्रोपराइटर्स शिप, पार्टनरशिप फर्म, एलएलपी या प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के रूप में दर्ज होनी चाहिए और यह नई इकाई होनी चाहिए। इसके साथ की निजी पेन और फर्म का करंट अकाउंट होना चाहिए।

Bihar Mukhyamantri Udyami Yojana Online Registration Sarkari Yojana 2022 : युवाओं के लिए बड़ी खुशखबरी ! उद्योग लगाने के लिए नितीश सरकार दे रही 10 लाख रुपए, यहाँ करें आवेदन.

ये हैं योजना के प्रमुख लाभ : मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना में अधिकतम 10 लाख रुपये तक की वित्तीय सहायता उपलब्ध कराई जाएगी। जिसमें अनुदान अधिकतम 50 प्रतिशत या 5 लाख रुपये तक का है। इस योजना में 50 प्रतिशत और अधिकतम 5 लाख रुपये तक ब्याज मुक्त ऋण रहेगा। इसके अलावा 25 हजार रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से प्रशिक्षण में खर्च किया जाएगा।

यह भी पढ़ें :  Buy LIC IPO : एलआईसी में बीमा ख़रीदने के साथ - साथ हिस्सेदारी ख़रीदने का बड़ा मौका.

योजना के प्रमुख बिंदु :

सम्बंधित प्रक्षेत्र के युवा युवतियों को कुल परियोजना लागत (प्रति इकाई) का 50 प्रतिशत अधिकतम रूपया 5,00,000 (पाँच लाख) ब्याज मुक्त ऋण जिसे 7 वर्षों (84 समान क़िस्तों) में अदा करना है.
 स्वीकृत राशि का 50% अधिकतम 500, 000 (पांच लाख) विशेष प्रोत्साहन योजनान्तर्गत अनुदान/सब्सिडी देय होगा.
 चयन के उपरांत लाभुकों के प्रशिक्षण के लिए प्रति इकाई रूपया 25,000 की व्यवस्था.
 इस योजना के अंतर्गत केवल नये उद्योंगों के स्थापना के लिए लाभ देय होगा . इन इकाइयों को बिहार औद्योगिक निवेश प्रोत्साहन निति 2016 का लाभ भी देय होगा.

मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना के लिए भी बिहार का निवासी होना अनिवार्य हैं। इस योजना में शर्तें और लाभ मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना वाले ही है:

● सामान्य, अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति अति पिछड़ा वर्ग के अंतर्गत हो.
● कम से कम 10+2 या इंटरमीडिएट, आईटीआई, पॉलिटेक्निक डिप्लोमा या उसके समकक्ष पासआउट होना चाहिए.
● उम्र सीमा- 18 से 50 वर्ष के बीच होनी चाहिए.
● यूनिट प्रोपराइटरशिप फर्म, पार्टनरशीप फर्म, LLP या फिर प्राइवेट लिमिटेड कंपनी होनी चाहिए.

युवा एवं महिला उद्यमी योजना की शुरुआत :

उद्यमी योजना में अब अगले 3 महीने तक आवेदन किया जा सकेगा। नए उद्योग लगाने के लिए सरकार 10 लाख तक की आर्थिक सहायता देगी। जिसमें 5 लाख रुपये अनुदान की राशि होगी और बाकी की रकम 1 प्रतिशत ब्याज के साथ 84 किस्तों में चुकाने होंगे। इसके लिए इच्छुक अभ्यर्थी को http://www.udhyog.bihar.gov.in पर अपना रजिस्ट्रेशन कराना होगा। यानी नए उद्यमी को यह सारी प्रक्रिया ऑनलाइन ही करनी होगी। इच्छुक अभ्यर्थी http://www.udhyog.bihar.gov.in पर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

क्या है बिहार मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना :

उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के लिए बिहार सरकार द्वारा बिहार मुख्यमंत्री उद्यमी योजना आरंभ की गई थी। इस योजना के माध्यम से अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के नागरिकों को ₹1000000 की आर्थिक सहायता उद्योग के लिए प्रदान की जाती है। अब इस योजना का लाभ प्रदेश के युवाओं को भी प्रदान किया जाएगा। प्रदेश के वे सभी लोग जिनकी आयु 18 वर्ष से 50 वर्ष के बीच है वह इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थी को 10+2 या इंटरमीडिएट, आईटीआई, पॉलिटेक्निक डिप्लोमा या समकक्ष होनी चाहिए।

यह भी पढ़ें :  Small Business Ideas : सरकार की मदद से शुरू करें ये बिजनेस, मिलेगा सस्ता लोन, होगी लाखों की कमाई- जानें कैसे करें अप्लाई.

Bihar Mukhyamantri Yuva Udhyami Yojana के माध्यम से प्रदेश की बेरोजगारी दर में भी गिरावट आएगी। इस योजना के माध्यम से प्राप्त हुई 10 लाख रुपए की राशि में से युवाओं को केवल ₹500000 रुपए वापस करने होंगे एवं ₹500000 का अनुदान सरकार द्वारा प्रदान किया जाएगा। ₹500000 की राशि पर युवाओं को 1% ब्याज का भुगतान करना होगा। इस योजना का संचालन बिहार के उद्योग विभाग द्वारा किया जाएगा।

 

 

क्या है बिहार मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना : 

महिलाओं को उद्योग के क्षेत्र में आगे बढ़ाने के लिए बिहार सरकार द्वारा बिहार मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना का आरंभ किया गया है। इस योजना के माध्यम से प्रदेश की महिलाओं को अपना उद्योग स्थापित करने के लिए ₹1000000 की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।

  • यह 10 लाख रुपए की राशि में से महिलाओं को केवल ₹500000 ही वापस करने होंगे शेष ₹500000 रुपए बिहार सरकार द्वारा अनुदान के रूप में प्रदान किए जाएंगे। महिलाओं को इस राशि पर किसी भी प्रकार के ब्याज का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है।
  • मुख्यमंत्री महिला उद्यमी योजना के संचालन के लिए सरकार द्वारा 400 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया गया है। इस योजना के माध्यम से महिलाएं सशक्त एवं आत्मनिर्भर बनेंगी एवं प्रदेश के अन्य नागरिकों को भी रोजगार प्रदान कर सकेंगी।
  • इसके अलावा इस योजना के माध्यम से प्रदेश की बेरोजगारी दर में भी गिरावट आएगी।
  • इस योजना का लाभ उठाने के लिए महिला की आयु 18 से 50 वर्ष के बीच होनी चाहिए एवं महिला द्वारा इंटरमीडिएट, आईटीआई, पॉलिटेक्निक डिप्लोमा या समकक्ष परीक्षा उत्तीर्ण की होनी चाहिए।
  • केवल प्रोपराइटरशिप फर्म, पार्टनरशिप फर्म, एलएलपी एवं प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के लिए ही इस योजना का लाभ प्राप्त किया जा सकता है।
यह भी पढ़ें :  बुढ़ापे का सहारा बनेगी केंद्र सरकार की ये स्कीम, मंथली मिलेगी 10,000 रुपए पेंशन | Pradhanmantri Vaya Vandana Yojana

बिहार मुख्यमंत्री उद्यमी योजना का उद्देश्य :

मुख्यमंत्री उद्यमी योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य में सूक्ष्म और लघु उद्योग को बढ़ावा देना है। इस योजना के माध्यम से अनुसूचित जाति तथा अनुसूचित जनजाति के नागरिकों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। जिससे कि वह अपना व्यापार शुरू कर पाए। इस योजना के माध्यम से बेरोजगारी दर में भी गिरावट आएगी। इसी के साथ अनुसूचित जाति तथा अनुसूचित जनजाति के युवाओं को बेहतर आजीविका प्राप्त होगी।

बिहार मुख्यमंत्री उद्यमी योजना 1% ब्याज पर प्रदान किया जाएगा ऋण :

स्वरोजगार के माध्यम से प्रदेश के नागरिक ना सिर्फ आत्मनिर्भर बनेंगे बल्कि दूसरे नागरिकों को भी रोजगार सर्जन कर सकेंगे। बिहार सरकार द्वारा स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न प्रकार के प्रयास किए जा रहे हैं। जिसके लिए सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार की योजनाएं आरंभ की जा रही हैं। ऐसी ही एक योजना बिहार मुख्यमंत्री उद्यमी योजना है। इस योजना के अंतर्गत सभी वर्ग के युवाओं को उद्यम शुरू करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। जिसके लिए उनको 10 लाख रुपए तक का ऋण प्रदान किया जाएगा। इसके अलावा सरकार द्वारा योजना की कुल लागत का 50% या अधिकतम ₹500000 तक का अनुदान भी प्रदान किया जाएगा एवं बाकी ₹500000 रुपए पर लाभार्थी को 1% ब्याज देना होगा। यह ऋण की राशि लाभार्थी को 84 किस्तों में लौटानी होगी। इस योजना के लिए बिहार सरकार द्वारा बजट भी निर्धारित कर दिया गया है।

 


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page