Follow Us On Goggle News

Chicken Egg Rate: बढ़ गए मीट-मुर्गे के दाम: 20-25 रुपये तक बढ़े चिकन के दाम, अंडा भी 7 रुपये पर पहुंचा

इस पोस्ट को शेयर करें :

Chicken Egg Rate: पश्चिम बंगाल पॉल्ट्री फेडरेशन सेक्रेटरी मदन मोहन कहते हैं, मुर्गियों के दाने के दाम लगातार बढ़ते जा रहे हैं. हमारे कुल खर्च में 90 परसेंट तक का इजाफा है. मुर्गी के दाने और दवा में पहले ही 80 फीसद का उछाल आ चुका है. इसके साथ ही ढुलाई पर आने वाला ईंधन खर्च पहले से 8.5 परसेंट तक बढ़ चुका है.

 

Chicken Egg Rate: अब महंगाई की मार अंडे (Egg Price) और पॉल्ट्री मीट तक पहुंच गई है. अंडे और मीट के दाम में पहले से तेजी देखी जा रही है. वजह बताई जा रही है कि लागत और खर्च पहले की तुलना में बढ़ गए हैं. लिहाजा अंडे और मीट भी महंगे हो गए हैं. कुछ दिन पहले तक 5.50 रुपये बिकने वाला अंडा अभी 7 रुपये प्रति नग पर पहुंच गया है. दर्जन या क्रेट के हिसाब से लें तो चवन्नी या अठन्नी की राहत भले मिल जाए, लेकिन खुदरा दाम अभी 7 रुपये के आसपास ही चल रहा है. हफ्ते भर पहले इसका रेट 6 रुपये चल रहा था. यही हाल ब्रॉलर चिकन (Chicken Rate) का है जिसके दाम में अचानक बढ़ोतरी देखी गई है. अगली बार जब मीट की दुकान में जाएं तो जेब ढीली करने के लिए तैयार रहें.

यह भी पढ़ें :  Gold Silver Price Today : सोने के भाव में आई भारी गिरावट, जानिए आज क्या है सोना चंडी का रेट.

 

‘PTI’ की एक रिपोर्ट बताती है कि एक हफ्ते में ही ब्रॉलर चिकन का दाम प्रति किलो 20-25 रुपये तक बढ़ गया है. रेट में वृद्धि का सिलसिला आगे जारी रहने वाला है क्योंकि चिकन और अंडे का काम करने वाली कंपनियों और पॉल्ट्री फार्म मालिकों ने लागत खर्च बढ़ने का हवाला दिया है. इनका कहना है कि मुर्गियों के दाने पहले से महंगे हो गए हैं, इसलिए अंडे और चिकन के रेट बढ़ाने के अलावा और कोई विकल्प नहीं बचता. सब्जियों के दाम में पहले से ही आग लगी है और रेट दिनों दिन चढ़ते जा रहे हैं. टमाटर के दाम सबसे ज्यादा चौंकाने वाले हैं. खुदरा बाजार में या रेहड़ी-ठेली पर बिकने वाला टमाटर भी 80 और 100 रुपये के आसपास चल रहा है.

क्यों बढ़े अंडे के दाम

कुछ दिन पहले तक दाम में नए-नए रिकॉर्ड बनाने वाला खाने का तेल अभी कुछ नरम है. लेकिन नरमी अभी उस दौर के बराबर नहीं है जब हम कोरोना से पहले के रेट पर सरसों या सूरजमुखी आदि के तेल खरीदते थे. पश्चिम बंगाल पॉल्ट्री फेडरेशन सेक्रेटरी मदन मोहन कहते हैं, मुर्गियों के दाने के दाम लगातार बढ़ते जा रहे हैं. हमारे कुल खर्च में 90 परसेंट तक का इजाफा है. मुर्गी के दाने और दवा में पहले ही 80 फीसद का उछाल आ चुका है. इसके साथ ही ढुलाई पर आने वाला ईंधन खर्च पहले से 8.5 परसेंट तक बढ़ चुका है. आज की तारीख में अगर एक अंडे का दाम 7 रुपये से नीचे रखें तो किसानों को कोई फायदा नहीं होगा.

यह भी पढ़ें :  Tomato Prices Hike: पेट्रोल से ज्यादा महंगा हुआ टमाटर, आसमान छू रहे दाम, जानिए अपने शहर की ताजा भाव

क्या कहते हैं व्यापारी

अनमोल फीड्स के एमडी अमित सरावगी कहते हैं, ऑयल केक और फीड की लागत में वृद्धि के चलते मुर्गी दाने के दाम में तेजी देखी जा रही है. अंडे और चिकन के दाम बढ़ाने में सबसे बड़ा रोल मुर्गी दाने के दाम में हुई बढ़ोतरी है. मदन मोहन कहते हैं कि अंडे और चिकन की सप्लाई में कोई दिक्कत नहीं है और न ही किसी तरह की कमी है. अंडा मार्केट में लगातार सप्लाई बनी हुई है. सप्लाई में कमी के चलते दाम में वृद्धि नहीं हुई बल्कि लागत खर्च बढ़ने से अंडे और चिकन के रेट बढ़े हुए हैं. वे बताते हैं कि देश में पहले की तरह आज भी हर दिन 25-27 करोड़ अंडे का उत्पादन हो रहा है. लेकिन उत्पादन महंगा हो रहा है.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page