Follow Us On Goggle News

Business Ideas : घर बैठे शुरू करें ये बंपर बिजनेस ! एक महीने में ही होगी लाखों की कमाई, जानिए पूरा डिटेल.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Rakhi Business Ideas : रक्षा बंधन (Raksha Bandhan) पर जहां गांव-शहरों में रंग-बिरंगी राखियों का बाजार (Rakhi Market) सजा दिखाई देता है, तो राखियों की ऑनलाइन सेल भी जमकर होती है. ऐसे में आपके लिए खुद की बनाई राखी को बेचने के लिए ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों प्लेटफॉर्म मौजूद हैं.

 

Business Ideas : इस साल का फेस्टिवल सीजन (Festive season) शुरुआत होने वाली है. इस बार अगस्त के महीने में महीने में कई त्योहार पर रहे हैं , जिनमे रक्षा बंधन (Raksha Bandhan) का त्योहार सबसे पहले है. भाई-बहन के प्रेम के प्रतीक इस पर्व को देश भर में धूमधाम से मनाया जाता है. इस मौके पर राखियों का बाजार (Rakhi Market) गुलजार रहता है. देश में इस त्योहार पर हजारों करोड़ रुपये का कारोबार होता है. ऐसे में आप भी त्योहारी मौसम में राखी का बिजनेस शुरू कर मोटी कुछ ही दिनों में मोटी कमाई कर सकते हैं.

 

छोटे निवेश में मोटा मुनाफा :

अगर आप भी कोई ऐसा बिजनेस (Rakhi Business) शुरू करने का प्लान बना रहे हैं, जो कम इंवेस्टमेंट (Small Investment) में चंद दिनों में मोटा मुनाफा (Big Profit) कराए तो इससे बेहतर समय नहीं होगा. सबसे खास बात कि ये काम आप घर बैठे शुरू कर सकते हैं. कोरोना का प्रकोप कम होने के कारण इस बार राखी का कारोबार फिर तेज होने की संभावना है.

यह भी पढ़ें :  PAN-Aadhaar Link : पैन-आधार लिंक नहीं किया तो जल्दी कर लें, वरना लगेगा बड़ा झटका.

आप इस बिजनेस को महज 20 से 50 हजार रुपये में शुरू कर सकते हैं. इस काम में आप अपनी क्रिएटिविटी का इस्तेमाल कर कुछ ही दिनों में लाखों की कमाई कर सकते हैं. 

 

बिना मशीन के भी बिजनेस शुरू :

कपड़ों से लेकर अन्य सामान बनाने के लिए मशीनें उपलब्ध हैं. लेकिन इस बिजनेस को आप बिना मशीनों के भी कर सकते हैं. बाजार में डिजाइनर राखियों का ट्रेंड है. इनमें हर आयु सीमा के लिए अलग-अलग थीम की राखियां शामिल हैं. जैसे बच्चों के लिए कार्टून वाली राखी, भगवान की मूर्तियों वाली, म्यूजिक या लाइट वाली राखी, सोने-चांदी के ब्रेसलेट वाली या ऐसे ना जाने कितने डिजाइन.

 

राखी बनाने के व्यापार के लिए रॉ मैटेरियल :

राखी बनाने के लिए रॉ मैटेरियल आसानी से मिल जाता है. रंग बिरंगे रेशम के धागे, रंगीन ऊन, सजावट के लिए क्राफ्ट आइटम, स्टिकर्स, मोती-सितारे और सूती धागे आदि के जरिए राखी को तरह-तरह का डिजाइन दिया जा सकता है. जितनी शानदार डिजाइन उतने ही ऊंचे दाम.

यह भी पढ़ें :  Ola e-scooter : ओला ई-स्कूटर की बिक्री दो दिनों में 1,100 करोड़ रुपये के पार, जानिए फिर कब होगी बिक्री.

इसके अलावा राखी की अच्छे से पैकिंग और इसके साथ त्योहार से संबंधित अन्य सामान रखकर बेचे जाने पर इसकी कीमत और भी बढ़ जाती है. बच्चों के पसंददीदा कार्टुन करेक्टर, सुपरमैन, क्रिकेटर, नेताओं, फिल्मी कलाकारों वाले राखियों की हमेशा डिमांड रहती है. 

 

ऑफलाइन या ऑनलाइन करें बिक्री :

तैयार की गई राखी को राखी को आप नजदीक के रिटेल शॉप, मॉल, बाजार में या थोक मार्केट में बेच सकते हैं. इसके अलावा आजकल ऑनलाइन शॉपिंग का क्रेज देखते हुए आप अपनी राखियों को ऑनलाइन बेचकर मोटा मुनाफा कमा सकते हैं. बाजार में डिजाइनर राखियों के दाम की बात करें तो एक राखी 100 से 150 रुपये तक आती है.

यही नहीं राखी के साख त्योहार के अन्य सामान का पूरा पैकेज 500 से 1000 रुपये तक मिलता है. यानी आप अपनी क्रिएटिविटी का उपयोग कर आकर्षक राखी बनाकर त्योहारी समय में ही लाखों रुपये कमा सकते हैं. राखी के रिटेल मार्केट में अनुमानित आप आसानी से 40 से 50 फीसदी का प्रॉफिट कमा सकते हैं.

यह भी पढ़ें :  Marriage Cancelled Due To Corona : अब कोरोना के कारण शादी कैंसिल होने पर मिलेंगे 10 लाख रुपए, जानिए क्या है तरीका.

 

6000 करोड़ रुपये का कारोबार :

रक्षाबंधन पर राखी की जमकर खरीदारी होती है. देश में इसका अनुमानित सालाना कारोबार करीब 6,000 करोड़ रुपये का है. इसे लेकर व्यापारी भी तरह-तरह की डिजाइनर राखियों के साथ पहले से तैयार रहते हैं. ऑफलाइन हो या फिर ऑनलाइन बिक्री, रक्षाबंधन पर धड़ल्ले से होती है. कोरोना काल में हालांकि, बिक्री पर बुरा असर हुआ, लेकिन फिर भी ऑनलाइन शॉपिंग (Online Shopping) जोरदार हुई. राखी के कारोबार में चीन का बड़ा हिस्सा रहता है.

 

अलग-अलग डिजाइन की आकर्षक राखियां (Designer Rakhi) पेश कर चीन भारतीय बाजार से हजारों करोड़ रुपये कमता है. हालांकि, कोरोना काल और सरकार की मेक इन इंडिया मुहिम के चलते बीते सालों में चीन के कारोबार पर असर पड़ा है. आप भी इस कारोबार का हिस्सा बन चीन को घर बैठे ही झटका दे सकते हैं.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page