Follow Us On Goggle News

Business Ideas : प्रदूषण जांच केंद्र खोलकर करें कमाई ! सरकार दे रही तीन लाख रुपए का अनुदान, यहां करें आवेदन.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Business Ideas : परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि प्रखंडों में नए वाहन प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए जरूरी उपकरणों (स्मोक मीटर, गैस एनालाइजर, इंटरनेट के साथ कंप्यूटर) आदि खरीदने में आने वाले खर्च का 50 प्रतिशत या अधिकतम तीन लाख रुपये अनुदान के रूप में दिया जाएगा.

 

Business Ideas : राज्य सरकार वाहन प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए तीन-तीन लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि देगी. इस योजना का लाभ वैसे प्रंखडों के लोगों को मिलेगा जहां पेट्रोल पंप और वाहन सर्विस सेंटर के अतिरिक्त एक भी वाहन प्रदूषण जांच केंद्र नहीं है. परिवहन विभाग ने इसके लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं. परिवहन मंत्री शीला कुमारी ने बताया कि वाहन प्रदूषण जांच केंद्र प्रोत्साहन योजना से वाहनों के प्रदूषण जांच में तो सहूलियत होगी ही, लोगों को रोजगार के अवसर भी मिलेंगे. Free Business Ideas

 

परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि प्रखंडों में नए वाहन प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए जरूरी उपकरणों (स्मोक मीटर, गैस एनालाइजर, इंटरनेट के साथ कंप्यूटर) आदि खरीदने में आने वाले खर्च का 50 प्रतिशत या अधिकतम तीन लाख रुपये अनुदान के रूप में दिया जाएगा. Free Business Ideas

यह भी पढ़ें :  PAN Aadhar Link : अगर पैन और आधार को नहीं कराया है लिंक? तो क्या होगा अब, इनकम टैक्स विभाग ने दी ये जानकारी.

 

परिवहन विभाग ने हर प्रखंड में वाहन प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए आवेदन मंगाए हैं. इसके लिए 35 जिलों में 134 प्रखंडों के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं. इच्छुक व्यक्ति जिला परिवहन कार्यालय में आवेदन कर सकते हैं. सरकार की योजना के मुताबिक, प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए प्रोत्साहन राशि के तौर पर 3 लाख रुपये भी दिए जाएंगे.  

इतनी है प्रोत्साहन राशि : Free Business Ideas

जानकारी के मुताबिक, परिवहन विभाग मंत्री शीला कुमारी ने बताया कि नए प्रदूषण जांच केंद्र खुलने से लोगों को रोजगार का अवसर मिलेगा एवं लोगों को वाहन प्रदूषण जांच कराने में सहूलित होगी. परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि जिस प्रखंड में एक भी वाहन प्रदूषण जांच केंद्र नहीं वैसे प्रखंडों में एक-एक वाहन प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए अधिकतम 3-3 लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी. 

मिलेगा तीन लाख रुपए तक का अनुदान :

प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए उपयोग में लाये जाने वाले उपकरणों (स्मोक मीटर, गैस एनालाईजर, डेस्कटॉप इंटरनेट के साथ, प्रिंटर एवं यूपीएस) के क्रय मूल्य का 50 प्रतिषत राषि या अधिकतम 3 लाख रुपए प्रोत्साहन राशि अनुदान स्वरुप दिया जाएगा. प्रखंडों में वाहन प्रदूषण जांच केंद्र खोलने के लिए इच्छुक आवेदक विहित प्रपत्र में आवेदन संबंधित जिला परिवहन कार्यालय में दे सकते हैं. 

यह भी पढ़ें :  7th Pay Commission: सरकार कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर! 34 फीसदी DA को मिली मंजूरी, हो गया कन्फर्म.

स्थायी निवासी कर सकते हैं आवेदन : Free Business Ideas

इस योजना के लिए इलाके के स्थाई निवासी ही आवेदन कर सकते हैं. योजना का आवंटन करने में आवेदकों की शैक्षणिक योग्यता भी देखी जाएगी. जिन लोगों के पास उच्च शिक्षा के सर्टिफिकेट होंगे या प्रदूषण नियंत्रण से जुड़े किसी कोर्स की डिग्री होगी तो उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी. शैक्षणिक योग्यता के आधार को तभी लागू किया जाएगा जब एक प्रखंड के लिए एक से अधिक आवेदन प्राप्त होंगे. Free Business Ideas

अगर समान शैक्षणिक योग्यता के एक से अधिक आवेदक आ जाएंगे तो ज्यादा उम्र वाले लोगों को तवज्जो दी जाएगी. इस योजना के तहत आर्थिक मदद लेकर प्रदूषण जांच केंद्र खोलने वाले लोगों के सामने शर्त होगी कि वह कम से कम तीन साल तक इस केंद्र का संचालन करेंगे. Free Business Ideas

 

आवेदन के साथ ये कागजात जरूरी : Free Business Ideas

 

  • एड्रेस प्रूफ की कॉपी
  • प्रदूषण जांच केंद्र स्थापना के लिए खुद की या स्टॉफ की शैक्षणिक एवं तकनीकी योग्यता, डिप्लोमा-डिग्री की कॉपी
  • बैंक पासबुक का पहला पेज
  • आधार कार्ड की कॉपी Free Business Ideas
यह भी पढ़ें :  Multibagger Penny Stocks: 2 रुपये के इस स्टॉक का कमाल, 1 लाख रुपये बन गए 1.81 करोड़.

 

आवेदन के लिए जरूरी शर्त :  Free Business Ideas

 

  • आवेदक उसी प्रखंड का स्थायी निवासी हो, जहां प्रदूषण जांच केंद्र की स्थापना की जानी है. इसके साथ ही आवेदक या उसका स्टाफ मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल या ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग में डिग्रीधारी अथवा डिप्लोमा हो या विज्ञान के साथ बारहवीं उत्तीर्ण हो या मोटरवाहन से संबंधित किसी ट्रेड में आइटीआइ उत्तीर्ण हो.  Free Business Ideas

इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page