Follow Us On Goggle News

Bihar Textile Policy : टेक्सटाइल पॉलिसी देगी नामी होजरी कंपनियों को बड़ा बाजार, शाहनवाज हुसैन ने कहा -‘सिर्फ बेचिए नहीं, बनाइए भी बिहार में’.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Bihar Textile Policy: बिहार के उद्योग मंत्री ने कहा कि बिहार अब बदल गया है. बिहार को अब उद्योग के चश्मे से देखने की जरूरत है.

 

Bihar Textile Policy: टेक्सटाइल सेक्टर के सभी उद्योगपतियों के लिए फायदे का सौदा है- ‘मेक-इन-बिहार’. उत्पादन लागत कम रखनी है तो आइए बिहार. ‘सिर्फ बेचिए नहीं, बनाइए भी बिहार में’. बिहार के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने ये बातें कोलकाता में पश्चिम बंगाल होजरी एसोसिएशन (WBHA) के साथ हुई एक बैठक में कही. मंगलवार को कोलकाता में भारत चैम्बर ऑफ कॉमर्स के मुख्यालय में बिहार के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कोठारी, रूपा, डॉलर, अमूल जैसी देश की प्रतिष्ठित होजरी ब्रांड के मालिकों के साथ बड़ी बैठक की और बिहार की प्रस्तावित टेक्सटाइल और लेदर पॉलिसी पर प्रेजेंटेशन देकर उन्हें बिहार के टेक्सटाइल सेक्टर में निवेश की अपील की.

बिहार में मौजूदा है टेक्सटाइल सेक्टर के लिए बड़ा बाजार : बड़ी संख्या में बैठक में जुटे पश्चिम बंगाल और दूसरे राज्यों के उद्योगपतियों को संबोधित करते हुए बिहार के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि होजरी के साथ पूरे टेक्सटाइल सेक्टर के लिए बिहार और इसके आसपास एक बड़ा राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय बाजार उपलब्ध है. साथ ही ‘मेक-इन-बिहार’ के भी बहुत से फायदे हैं. उन्होंने कहा कि बिहार में टेक्सटाइल क्षेत्र के लिए न तो कुशल श्रम शक्ति की कोई कमी है और न ही संसाधनों की. अगर राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय बाजार में सस्ती उत्पादन लागत के साथ प्रतिस्पर्धा में बने रहना है तो बिहार में टेक्सटाइल उद्योग स्थापित करने से बेहतर कोई और विकल्प नहीं.

यह भी पढ़ें :  Post Office Investment Scheme : की बंपर फायदे वाली स्कीम, 5 साल में मिलेंगे 14 लाख रुपए.

कोलकाता में इस अहम बैठक के लिए बिहार के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन के साथ उद्योग विभाग के अपर मुख्य सचिव बृजेश मेहरोत्रा भी पहुंचे थे. बैठक में उद्योग विभाग की तरफ से पश्चिम बंगाल के नामी औद्योगिक घरानों के उद्योगपतियों के सामने बिहार की प्रस्तावित टेक्सटाइल और लेदर पॉलिसी को लेकर एक प्रेजेंटेशन दिया गया.

make in bihar scheme Bihar Textile Policy : टेक्सटाइल पॉलिसी देगी नामी होजरी कंपनियों को बड़ा बाजार, शाहनवाज हुसैन ने कहा -'सिर्फ बेचिए नहीं, बनाइए भी बिहार में'.शानदार टेक्सटाइल पॉलिसी बनाने पर जोर : बिहार के उद्योग मंत्री ने कहा कि हमारी कोशिश है कि जल्द आने वाली बिहार के टेक्सटाइल और लेदर पॉलिसी इतनी शानदार हो कि देश के बड़े ब्रांड को भी बिहार आने में कोई हिचक न हो. उन्होंने कहा कि इससे पहले भी दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, चंडीगढ़ समेत देश के कई हिस्सों में कार्यरत्त टेक्सटाइल सेक्टर के बड़े उद्योगपतियों से मिलकर उनकी राय वो ले चुके हैं. कोलकाता में टेक्सटाइल में खासकर होजरी सेक्टर के बड़े उद्योगपतियों से मुलाकात की है और उनके सभी महत्वपूर्ण सुझावों को आत्मसात कर बेस्ट टेक्सटाइल और लेदर पॉलिसी लाने की उनकी कोशिश है.

यह भी पढ़ें :  Bihar Politics: राजद में डैमेज कंट्रोल के बाद तेजप्रताप ने फिर साधा निशाना, कहा - 'दिल्ली में मॉल बनवा रहे तेजस्वी!'

कौन कौन हुआ बैठक में शामिल : कोलकाता के भारत चैम्बर ऑफ कॉमर्स के मुख्यालय में हुई बैठक में लक्स ग्रुप के चेयरमैन अशोक टोडी, कोठारी ग्रुप के चेयरमैन बी डी कोठारी, अमूल ग्रुप के चेयरमैन बी एन सेकसरायल, डॉलर ग्रुप के कृष्ण गुप्ता, कोक्स होजरी के सुदेश अग्रवाल, कॉटन केजुअल के प्रदीप अरोड़ा, पश्चिम बंगाल होजरी एसोसिएशन के ट्रेजरर प्रदीप टोडी समेत कई लोग मौजूद रहे. बैठक में शेरा, रूपा समेत होजरी सेक्टर ( Bihar Textile Policy ) के लगभग सभी प्रतिश्ठित ब्रांड के मालिक या प्रतिनिधियों ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई और बिहार में निवेश को लेकर उत्सुक्ता जाहिर की.

बिहार के उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि हमारी कोशिश है कि उद्योग जगत के सुझाव पहले ही लेकर ऐसी पॉलिसी बनाई जाए जो बिहार में निवेश के लिए अत्यंत आकर्षक हो और देश के साथ विदेश में भी निर्यात करने वाले उद्योगपतियों के लिए बिहार में उद्योग लगाना फायदेमंद रहे.

यह भी पढ़ें :  Teacher Appointment : आज से शुरू होगा प्राथमिक शिक्षक नियोजन का दूसरा चरण, 65 हजार पदों के लिए होगी काउंसलिंग.

बिहार के उद्योगमंत्री के साथ बैठक और बिहार की प्रस्तावित टेक्सटाइल ( Bihar Textile Policy ) और लेदर पॉलिसी के प्रजेंटेशन के बाद प्रतिष्ठित होजरी ब्रांड के मालिकों ने खुशी जाहिर की है. पश्चिम बंगाल होजरी एसोसिएशन के प्रेसिडेंट अशोक टोडी ने बिहार की प्रस्तावित टेक्सटाइल-लेदर पॉलिसी को आकर्षक बताया. लेकिन, बिहार के उद्योग मंत्री से अपील की कि वो केंद्र से बात कर फैक्ब्रिक्स और गार्मेंट्स की कुछ कैटेगरी में की गई GST दर की बढ़ोतरी को कम कर पहले जैसा रखने के लिए पहल करें.

बिहार के उद्योग मंत्री ने कहा कि बिहार अब बदल गया है. बिहार को अब उद्योग के चश्मे से देखने की जरूरत है. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जिस तरह राज्य में सड़क, बिजली और दूसरी आधारभूत संरचना का विकास करने के साथ सुशासन का माहौल बनाया है, उद्योगपति बिहार में बेहिचक और निर्भीक होकर ( Bihar Textile Policy ) उद्योगों की स्थापना कर सकते हैं.


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page