Follow Us On Goggle News

Income Tax Return : इनकम टैक्स लायक नहीं कमाई! फिर भी भरें टैक्स रिटर्न, जानिए क्या हैं इसके फायदे

इस पोस्ट को शेयर करें :

Income Tax Return : अगर आपकी कमाई Tax exemption limit के नीचे आती है तो कानूनन आपको ITR भरने की जरूरत नहीं होती है, लेकिन ऐसा करके आप कई फायदों से हाथ धो बैठते हैं. इसलिए टैक्स एक्सपर्ट सभी को ITR भरने की सलाह देते हैं. टैक्स रिटर्न भरने की लास्ट डेट 31 मार्च है.

 

Income Tax Return: अगर अब तक आपने ITR नहीं भरा है तो फटाफट भर लें. वित्त वर्ष 2021-22 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने की आखिरी तारीख करीब है. अगर आपने भी अब तक इनकम टैक्स रिटर्न नहीं भरा है तो जल्दी भर लें. 31 मार्च तक अगर आपने रिटर्न नहीं भरा तो आपको जुर्माने के साथ जेल भी हो सकती है.

 

इनकम टैक्स भरना अनिवार्य :

कोई भी व्यक्ति जो 60 साल से कम उम्र का है, और जो सालाना 2.5 लाख रुपये कमाता है, उसे इनकम टैक्स से छूट मिलती है. कोई व्यक्ति जिसकी कुल कमाई टैक्स छूट की सीमा से ज्यादा होती है, उसे इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करना होता है. सभी जानते हैं कि 60 साल से ज्यादा और 80 साल से कम सीनियर सिटिजन के लिए टैक्स छूट की सीमा 3 लाख रुपये है, जबकि सुपर सीनियर सिटिजन यानी 80 साल से ऊपर के लिए ये सीमा 5 लाख रुपये है. अगर आपकी सैलरी इनकम टैक्स की सीमा से कम है, तो भी आपको इनकम टैक्स रिटर्न भरना चाहिए, क्योंकि इसके कई फायदे होते हैं.

यह भी पढ़ें :  LPG Gas Price Today : 100 रुपये महंगा हो गया गैस सिलेंडर, चेक करें आपके शहर में क्या है नया रेट?

1. लोन की योग्यता तय होती है :

अगर आप कोई लोन लेने जा रहे हैं तो, बैंक आपकी योग्यता की जांच पड़ताल करता है, जो इनकम के आधार पर होती है. बैंक कितना लोन आपको देगा, ये इस बात पर निर्भर करता है कि आपकी इनकम कितनी है जो आपने इकनम टैक्स रिटर्न में फाइल की है. दरअसल, ITR एक ऐसा डॉक्यूमेंट है जो सभी बैंक लोन की आसान प्रोसेसिंग के लिए इस्तेमाल करते हैं.

आमतौर पर बैंक लोन प्रोसेसिंग के दौरान अपने ग्राहकों से 3 ITR की मांग करते हैं. इसलिए अगर आप कोई होम लोन लेकर घर खरीदना चाहते हैं, या फिर कार लोन लेना चाहते हैं या पर्नसल लोन लेना चाहते हैं, तो ITR जरूर दाखिल करना चाहिए क्योंकि इससे लोन मिलने में आसानी होती है.

2. टैक्स रिफंड के लिए जरूरी है :

अगर आप ITR फाइल करते हैं तो आप टर्म डिपॉजिट जैसी बचत योजनाओं पर मिलने वाले ब्याज पर टैक्स बचा सकते हैं. डिविडेंड इनकम पर भी टैक्स बचाया जा सकता है. ITR रीफंड के जरिए आप टैक्स को क्लेम कर सकते हैं, अगर कुल इनकम कई स्रोतों की कमाई से 2.5 लाख रुपये से ज्यादा हो जाती है, तो कटा हुआ TDS आप दोबारा क्लेम कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें :  आपका भी है पंजाब नेशनल बैंक में यह अकाउंट तो फ्री में मिलेगा 2 लाख का फायदा, जानें कैसे? | Punjab National Bank Scheme

3. पता, इनकम प्रूफ के लिए वैध डॉक्यूमेंट :

इनकम टैक्स असेसमेंट ऑर्डर को वैध एड्रेस प्रूफ के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है. इसका इस्तेमाल आधार कार्ड बनवाने में भी किया जा सकता है. कंपनी की ओर से कर्मचारियों को फॉर्म-16 जारी किया जाता है. जो कि उसका इनकम प्रूफ होता है. खुद का काम करने वाले या फ्री-लांसर के लिए भी ITR फाइलिंग डॉक्यूमेंट एक वैध इनकम प्रूफ की तरह काम करता है.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page