Follow Us On Goggle News

Wages of Laborers: मजदूरों की मजदूरी बढ़ाने का ऐलान, अब हर हाल में देनी होगी न्यूनतम मजदूरी.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Wages of Laborers: कामगारों को न्यूनतम मजदूरी नहीं देने वाले संस्थान, प्रतिष्ठान या एजेंसियों के लिए बुरी खबर है। श्रम संसाधन विभाग ने तय किया है कि अगर किसी संस्थान, प्रतिष्ठान या एजेंसी के खिलाफ न्यूनतम मजदूरी नहीं देने की शिकायत आएगी तो उनकी बैंक गारंटी जब्त कर ली जाएगी। श्रम संसाधन विभाग ने साफ किया है कि कामगारों को हर हाल में न्यूनतम मजदूरी देना है।

 

राज्य में दैनिक मजदूरी के आधार पर लाखों लोग काम करते हैं। काम के बदले मजदूरों को सरकार की ओर से निर्धारित न्यूनतम मजदूरी देनी है। लेकिन विभाग यह शिकायत मिल रही है कि कामगारों को न्यूनतम मजदूरी नहीं मिल रही है। खासकर आउटसोर्सिंग एजेंसियां न्यूनतम मजदूरी नहीं देती हैं। साफ-सफाई या कार्यालय का काम कराने वाली आउटसोर्सिंग एजेंसियों के खिलाफ अधिक शिकायतें हैं।इसके आलोक में विभाग ने एक आदेश जारी किया है।

यह भी पढ़ें :  Bihar Crime : बिहार में नलजल योजना का काम कर रहे हैदाराबाद के इंजीनियर का अपहरण, पुलिस ने किया सकुशल बरामद.

विभागीय अधिसूचना में कहा गया है कि बिहार में न्यूनतम मजदूरी दर लागू है। अगर किसी ने न्यूनतम मजदूरी दर नहीं दी तो उन्हें एक साल की सजा और तीन हजार तक का जुर्माना दोनों भी देना होगा। साथ ही एजेंसियों की बैंक गारंटी भी जब्त कर ली जाएगी। न्यूनतम मजदूरी नहीं मिलने पर कामगार सक्षम न्यायालय में खुद या प्रखंड के श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी के माध्यम से दावापत्र दायर कर सकते हैं।

वहीं, कृषि कार्य से संबंधित मजदूरी के लिए सीओ, उप समाहर्ता या श्रम अधीक्षक तो गैर कृषि काम के लिए सहायक श्रमायुक्त, अनुमंडलाधिकारी या श्रम न्यायालय में दावा करना होगा। न्यूनतम मजदूरी मिलने में कठिनाई हो तो प्रखंड के श्रम प्रवर्तन अधिकारी, जिले के श्रम अधीक्षक, सहायक श्रमायुक्त, उप श्रमायुक्त से भी सम्पर्क कर सकते हैं। विभाग के पटना स्थित नियोजन भवन, तृतीय तल, बी ब्लॉक बेली रोड के श्रमायुक्त कार्यालय में आकर भी मजदूर अपनी शिकायत दर्ज कराई जा सकती है।

यह भी पढ़ें :  Live Video : देखते ही देखते तेज धारा में बह गया युवक, वीडियो बनाने वाले समझे कि वो मर गया लेकिन...

Wages of Laborers अभी है न्यूनतम मजदूरी दर:

  • श्रेणी – रोजाना
  • अकुशल 318 रुपए
  • अर्धकुशल 330 रुपए
  • कुशल 403 रुपए
  • अतिकुशल 492 रुपए
  • पर्यवेक्षीय 9111 (मासिक)

Wages of Laborers और बढ़ेगी मजदूरी:

बिहार के मजदूरों को अभी न्यूनतम मजदूरी 218 रुपए रोजाना है। आने वाले दिनों में मजदूरों को न्यूनतम 366 रुपए रोजाना मजदूरी मिलेगी। मजदूरों की न्यूनतम मजदूरी दर में वृद्धि की अनुशंसा न्यूनतम मजदूरी परामर्शदातृ पर्षद ने की है। अभी इस पर लोगों से आपत्ति व सुझाव लिए जा रहे हैं। अगस्त-सितम्बर तक नई दर बिहार में प्रभावी हो जाएगी। इस तरह मौजूदा दर से राज्य के तीन करोड़ से अधिक मजदूरों को कम से कम 48 रुपए अधिक मिलेंगे।


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page