Follow Us On Goggle News

Temple Property Sale: मठ-मंदिर की जमीन खरीद-बिक्री करने वालों के लिए बुरी खबर.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Temple Property Sale: राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री रामसूरत कुमार ने कहा है कि सरकार आश्वस्त करती है कि मठ-मंदिरों की जमीन बेचने नहीं दी जाएगी। हालांकि मठ-मंदिर की जमीन सरकारी भूमि नहीं है। लेकिन इन जमीनों के मालिकाना हक भगवान और सेवादारों, पुजारियों के नाम अभ्युक्ति में दर्ज हो रहे हैं।

 

सेवादार जमीन से होने वाली आय से अपना खर्च, मंदिर का जीर्णोद्धार कर सकते हैं लेकिन उन जमीनों की बिक्री नहीं कर सकते। इन जमीनों को बेदखल नहीं होने दिया जाएगा। गुरुवार को संजय सरावगी के ध्यानाकर्षण के जवाब में विस में राजस्व मंत्री ने कहा कि मठ-मंदिर का संचालन बिहार राज्य धार्मिक न्यास पर्षद के माध्यम से होता है। Temple Property Sale

 

इसके लिए अधिनियम बना हुआ है और यह विधि विभाग के अधीन आता है। प्रश्नकर्ता ने मंत्री के जवाब को अस्पष्ट बताया। मंत्री ने कहा कि 1509 अनिबंधित मठ-मंदिरों के पास 26 हजार एकड़ जमीन है। सरकार यह सुनिश्चित करेगी कि इन जमीनों की बिक्री नहीं हो। खुद को संत विरोधी नहीं बताते हुए मंत्री ने कहा कि यह लोक की भूमि है। Temple Property Sale

यह भी पढ़ें :  बिहार में अगले 5 वर्षों तक लागू नहीं होगा जनसंख्या कानून! सीएम नीतीश कुमार ने दिए इशारे.

पूर्वजों ने मठ-मंदिर के लिए जमीन दी है। सभाध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा के हस्तक्षेप पर सदन में मौजूद विधि मंत्री प्रमोद कुमार ने कहा कि अंचलाधिकारी के माध्यम से धार्मिक न्यास पर्षद को मठ-मंदिरों की जमीन के बारे में सूचना मिलेगी, तभी इसका निबंधन हो सकेगा। Temple Property Sale

लेकिन निबंधन से पहले यह जरूरी है कि इन जमीनों की पैमाइश हो और पिलरिंग का काम कर लिया जाए ताकि इसकी सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके। प्रश्नकर्ता के असंतुष्ट रहने पर सभाध्यक्ष ने कहा कि मठ-मंदिरों की जमीन का मामला राजस्व विभाग, विधि विभाग, निबंधन विभाग सहित कई विभागों से जुड़ा है। इसलिए सरकार इस पर गंभीरता से विचार कर निर्णय ले। Temple Property Sale


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page