Follow Us On Goggle News

RJD Dawat-e-Iftar : आरजेडी के दावत-ए-इफ्तार में शामिल हुए CM नीतीश, बिहार में नए राजनीतिक समीकरण की चर्चा.

इस पोस्ट को शेयर करें :

RJD Dawat-e-Iftar : 5 साल बाद राष्ट्रीय जनता दल (RJD) की तरफ से आयोजित इफ्तार पार्टी में CM नीतीश कुमार शामिल हुए हैं. लालू यादव को बेल मिलने के बाद नीतीश कुमार के इफ्तार में शामिल होने की खबर से बिहार में राजनीति तेज हो गई है. इससे पहले 2017 में मकर संक्रांति के मौके पर नीतीश कुमार राबड़ी आवास गए थे। इसके बाद से आज वह पार्टी में शामिल हुए हैं.

 

RJD Iftar Party : सीएम आवास एक अणे मार्ग के बाद अब सूबे के दूसरे सबसे चर्चित आवास 10 सर्कुलर रोड शुक्रवार को कई सियासी समीकरणों का गवाह बनेगा, दरअसल, पूर्व सीएम राबड़ी देवी का यह आवास 5 साल बाद दावत-ए-इफ्तार (Iftar at former CM Rabri Devi residence) से गुलजार होगा. भले ही इस आयोजन को सांप्रदायिक सौहार्द के लिए कहा जा रहा है लेकिन राजनीति को हर पल जीने वाले इस राज्य में इफ्तार के बहाने कई सियासी समीकरणों के बनने से राज्य के राजनीतिक जानकार इनकार नहीं कर रहे हैं. इधर, डोरंडा कोषागार से अवैध निकासी के मामले में लालू प्रसाद यादव को झारखंड हाई कोर्ट से जमानत मिल गई है. इससे आरजेडी के नेताओं और कार्यकर्ताओं में जोश का संचार हुआ है. इसे काफी अहम माना जा रहा है.

 

RJD के दावत-ए-इफ्तार में शामिल होंगे नीतीश कुमार :

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव का न्योता स्वीकार किया है. वे आज शाम पटना स्थित राबड़ी आवास में आयोजित दावत-ए-इफ्तार में शिरकत करेंगे. बता दें कि पांच साल बाद आरजेडी की ओर से इस बार इफ्तार पार्टी का आयोजन किया गया है, जिसमें शामिल होने के लिए मुख्यमंत्री सहित कई पार्टियों के नेता को न्योता भेजा गया है.

यह भी पढ़ें :  सभी प्रखंडों में खुलेंगे सुधा डेयरी के बूथ, हर महीने लाखों रुपये कमाने का मौका. | Sudha Milk Booth

 

 

चिराग पासवान और मुकेश सहनी भी आमंत्रित : 

विधानसभा चुनाव के पहले पीठ में छुरा घोंपने का आरोप लगाकर महागठबंधन से अलग होने वाले वीआईपी सुप्रीमो मुकेश सहनी (VIP Supremo Mukesh Sahni) को भी इस इफ्तार में आमंत्रित किए जाने की खबर है. इसके अलावा खुद को पीएम मोदी का हनुमान कहने वाले लोजपा रामविलास के प्रमुख व सांसद चिराग पासवान (MP Chirag Paswan) के भी इफ्तार में शामिल होने की संभावना है. चिराग पासवान की पार्टी के एक वरिष्ठ नेता का कहना है कि उनके इस इफ्तार में शामिल होने की पूरी संभावना है. वहीं, वीआईपी के सूत्रों का कहना है कि मुकेश सहनी अभी राजधानी से बाहर हैं. अगर वह समय पर पटना लौटेंगे तो इफ्तार में शामिल हो सकते हैं. राजद सूत्रों के अनुसार इफ्तार के लिए एनडीए गठबंधन में शामिल हम पार्टी को भी आमंत्रित किया गया है. पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को इसमें शामिल होने का अनुरोध किया गया है.

यह भी पढ़ें :  Viral Video : बिहार में महिला पर तालिबानी जुल्म ! पंचायत में निर्वस्त्र कर गर्म सलाखों से सरेआम पीटा, मुकदर्शक बना रहा समाज.

 

तेजस्वी यादव ने अमित शाह को दिया था न्योता :

बता दें कि गुरुवार को पार्टी सुप्रीमो लालू यादव (Lalu Yadav) के बड़े बेटे और हसनपुर विधायक तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने उक्त कार्यक्रम में देश के गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) को शामिल होने का भी न्योता भेजा है. इस बात की जानकारी उन्होंने ट्वीट कर दी थी.

तेजस्वी ने ट्वीट कर लिखा था- ” रमजान के मुबारक मौके पर गृह मंत्री अमित शाह का पाटलिपुत्र की पावन धरती पर 10 सर्कुलर रोड पर आयोजित दावते इफ्तार में हार्दिक स्वागत है.” हालांकि, गृह मंत्री उनके कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगे.

 

 

 

 

तेजस्वी के नेतृत्व में हो रहा कार्यक्रम :

बता दें कि तेजस्वी के नेतृत्व में पटना स्थित राबड़ी आवास में इफ्तार पार्टी का आयोजन हो रहा है. शाम 6:17 बजे से दावत-ए-इफ्तार शुरू होगा. बिहार के सभी जिलों से मुस्लिम समाज के प्रतिनिधियों को बुलाया गया है. तेजस्वी ने सभी रोजेदार भाइयों और बहनों से गुजारिश की है कि वे दावत में शिरकत करें.

 

5 साल बाद RJD का आयोजन: 

बता दें कि 5 सालों के बाद आरजेडी की तरफ से दावत-ए-इफ्तार का आयोजन (Dawat-e-Iftar organize by RJD) किया जा रहा है. लालू यादव के जेल जाने के कारण आरजेडी पिछले कुछ सालों से दावत-ए-इफ्तार कार्यक्रम का आयोजन नहीं कर रहा था. वहीं, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह 2 दिनों के बिहार दौरे पर आ रहे हैं. अमित शाह वीर कुंवर सिंह के विजयोत्सव कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे. इस दौरान सबसे ज्यादा तिरंगा फहराने का रिकॉर्ड भी बनेगा. सबकी नजर बिहार में बदल रहे राजनीतिक घटनाक्रम पर भी है.

 

लालू प्रसाद यादव को मिली जमानत: बता दें कि डोरंडा कोषागार से अवैध निकासी के मामले में लालू प्रसाद यादव को रांची हाई कोर्ट से बड़ी राहत मिली है. कोर्ट ने उन्हें 10 लाख रुपए के निजी मुचलके पर जमानत दे दी है. हाई कोर्ट में दायर लालू प्रसाद की जमानत याचिका पर आज सुनवाई हुई थी. इससे पहले लालू प्रसाद के केस को लेकर हाई कोर्ट की तरफ से पूछे गए सवालों का जवाब सीबीआई की ओर से पेश किया गया था. हाई कोर्ट के जस्टिस अपरेश कुमार सिंह की अदालत में लालू प्रसाद की जमानत याचिका को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया गया था. याचिकाकर्ता की ओर से दायर याचिका में लालू प्रसाद की बीमारी, उम्र और आधी सजा जेल में काटने का हवाला देते हुए जमानत की गुहार लगाई गई थी. रांची हाई कोर्ट ने सीबीआई की दलीलों को खारिज करते हुए सुनवाई के बाद निजी मुचलके पर जमानत दी. लालू यादव की तरफ से वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने पक्ष रखा था.


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page