Follow Us On Goggle News

Land Servey : 18 बड़े जिलों में नए साल में होगा भूमि सर्वे, जल्द पांच हजार से ज्यादा कर्मचारियों की होगी तैनाती, रैयतों से की ये अपील.

इस पोस्ट को शेयर करें :

राज्य में वर्तमान में 20 जिलों में भूमि सर्वेक्षण का कार्य चल रहा है. अगले वर्ष नये जिलों में भूमि सर्वेक्षण को लेकर कैंप कार्यालयों की स्थापना, कर्मियों के प्रशिक्षण इत्यादि के कार्य पहले पूरे किए जाएंगे.

बिहार के 18 बड़े जिलों में नए साल में भूमि का सर्वेक्षण होगा। राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के मंत्री रामसुरत कुमार ने गुरुवार को अपने कार्यालय कक्ष में भू अभिलेख एवं परिमाप निदेशालय के वार्षिक प्रगति प्रतिवेदन का पत्रिका के रूप में लोकार्पण किया। इस मौके पर मंत्री ने कहा कि अगले वर्ष राज्य के बड़े जिलों में भूमि सर्वेक्षण का कार्य शुरू किया जाएगा।

राज्य में वर्तमान में 20 जिलों मुंगेर, पश्चिमी चंपारण, नालंदा, शेखपुरा, मधेपुरा, सुपौल, बेगूसराय, सहरसा, जमुई, कटिहार, लखीसराय, बांका, पूर्णिया, खगड़िया, शिवहर, अररिया, सीतामढ़ी, अरवल, जहानाबाद व किशनगंज में भूमि सर्वेक्षण का कार्य चल रहा है। शेष जिलों में अगले वर्ष सर्वेक्षण शुरू करने की तैयारी की जा रही है।

यह भी पढ़ें :  Accident : बिहार में भीषण हादसा, पटना एयरपोर्ट के बाहर तेज रफ्तार बस ने 2 इंडिगो कर्मी को रौंदा, एक की मौत.

मंत्री ने कहा कि अगले वर्ष नये जिलों में भूमि सर्वेक्षण को लेकर कैंप कार्यालयों की स्थापना, कर्मियों के प्रशिक्षण इत्यादि के कार्य पहले पूरे किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि अक्टूबर तक सूबे के 3 जिलों शेखपुरा, सुपौल और बेगूसराय के 40 गांवों में सर्वे का काम पूरा हो जाएगा और वहां के रैयतों को उनके प्लॉट का नया नक्शा और खतियान मिल जाएगा।

इसके अलावा अक्टूबर से लगातार इस मामले में प्रगति दिखेगी। मंत्री ने रैयतों खासकर अपने गांव से बाहर रहने वाले लोगों से अपील की कि वो इस महत्वपूर्ण काम में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें। एक बार घर आकर अपनी जमीन को देख लें, ताकि बाद में परेशानी न उठानी पड़े। एक बार भूमि सर्वेक्षण का काम पूरा होने पर और खतियान बन जाने पर उसमें किसी भी तरह का सुधार बहुत ही मुश्किल होगा।

minister-ram-surat-rai

इस अवसर पर विभाग के अपर मुख्य सचिव विवेक कुमार सिंह ने कहा कि कर्मियों की कमी से विभाग जूझ रहा है, लेकिन अगले कुछ महीनों में 4 हजार से अधिक कर्मचारी, 17 सौ 64 नियमित अमीन और 564 राजस्व अधिकारी मिलनेवाले हैं। इससे स्थिति में सुधार होगा।

यह भी पढ़ें :  Bihar Politics: पुत्र मोह में अपनों से दूर हो रहे लालू, आरजेडी पर भारी पड़ रही तेज प्रताप की मनमानी.

सर्वे निदेशक जय सिंह ने कहा कि 2000 के करीब विषेश सर्वेक्षण कर्मी यथा: अमीन/कानूनगो/लिपिक और सहायक बंदोबस्त पदाधिकारी की जल्द ही नियुक्ति होने जा रही है। इनका चयन पुराने पैनल के आधार पर ही होगा। इनके आने से सर्वेक्षण के काम में और रफ्तार आ जाएगी।

इस मौके पर भूमि सर्वेक्षण के निदेशक जय सिंह, निदेशक भू अर्जन सुशील कुमार, संयुक्त सचिव कंचन कपूर समेत विभाग के सभी वरीय पदाधिकारी मौजूद थे। इस पत्रिका में पिछले एक साल में भू अभिलेख और परिमाप निदेशालय द्वारा किए गए कार्यों का ब्योरा पेश किया गया है।


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page