Follow Us On Goggle News

Bihar Politics : सुलझ गया ‘मुद्दा’ या डैमेज कंट्रोल, जगदानंद बोले- ‘RJD में कोई कलह नहीं.’

इस पोस्ट को शेयर करें :

राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे और राजद नेता तेज प्रताप यादव की पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह से तकरार कोई छिपी बात नहीं है. तेजप्रताप यादव सार्वजनिक तौर पर उनके खिलाफ लगातार तल्ख तेवर दिखा रहे हैं. दूसरी ओर जगदानंद सिंह डैमेज कंट्रोल में जुटे हैं.

राष्ट्रीय जनता दल में जगदानंद सिंह (Jagdanand Singh) और तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) के बीच का विवाद अभी बिहार की राजनीति में हॉट टॉपिक है. तेज प्रताप यादव खुलेआम उनके खिलाफ मोर्चा खोल चुके हैं. रोजाना मीडिया के समक्ष तीखे बयानों के तीर दाग रहे हैं. एक प्रकार से वे राजनीतिक तौर पर जगदानंद सिंह के साथ दो-दो हाथ करने की घोषणा कर चुके हैं. दूसरी ओर जगदानंद सिंह इस प्रकार से बयान दे रहे हैं जैसे कुछ हुआ नहीं है. कहीं कोई विवाद नहीं है.

मीडिया से बात करते हुए जगदानंद सिंह ने दावा किया कि राजद में कहीं कोई कलह नहीं है. राजद में कभी कलह होता ही नहीं है. उन्होंने दावा कि हमारा नेतृत्व ऐसा है कि जिसे कोई चुनौती देने वाला नहीं है. उनका वचन ही अंतिम होता है. जगदानंद सिंह का इशारा लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) की ओर था. राजद के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि राष्ट्र उनके वचन पर खड़ा हो जाता है. पार्टी उनके साथ हरदम खड़ी रहती है. पार्टी में सब कुछ ठीक है, हर चीज सही है.

तेज प्रताप यादव का नाम लेकर पूछे जाने पर उन्होंने साफ कहा कि विवाद कहीं भी नहीं है. जगदानंद सिंह ने उल्टे इसका ठीकरा विपक्षी दलों को सिर पर फोड़ा. उन्होंने आरोप लगाया कि मुख्य समस्याओं की ओर से जनता का ध्यान भटकाने के लिए विपक्षी पार्टियां विवाद खड़ा कर देती हैं. इसके बाद उन्होंने बाढ़ और कोरोना के मुद्दे पर सरकार को घेरा.

यह भी पढ़ें :  Bihar Politics : नीति साफ... रणनीति में बदलाव, अचानक आक्रामक क्यों हो गए नीतीश?

tajashwi-tejpratap

आपको बता दें कि पिछले कई दिनों से तेज प्रताप यादव और जगदानंद सिंह के बीच विवाद ने बिहार की राजनीति में तमाम मुद्दों को पीछे छोड़ दिया है. तेज प्रताप यादव जगदानंद सिंह पर कई गंभीर आरोप लगा चुके हैं. दूसरी तरफ जगदानंद सिंह ने भी यह कह दिया था कि वे किसी तेजप्रताप को नहीं जानते. इससे तेज प्रताप भड़क गये थे. हालांकि आज इस पूरे मामले को लेकर जगदानंद सिंह ने कहा कि कहीं कोई विवाद नहीं है. तमाम मुद्दे सुलझ चुके हैं.

जानकारी के मुताबिक तेज प्रताप के रुख से नाराज तेजस्वी ने जिस तरह से यह कहा कि बड़ों का सम्मान होना चाहिए. उसके बाद तेज प्रताप के रुख में भी नरमी आई है. इस बात की संभावना है कि बहुत जल्द यह मामला सुलझ जाएगा.

गौरतलब है कि राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह (Jagdanand Singh) द्वारा राजद के युवा प्रदेश अध्यक्ष को हटाए जाने के मामले को लेकर तेजप्रताप यादव (Tej Pratap yadav) नाराज हो गए हैं. तेजप्रताप यादव ने सीधे तौर पर जगदानंद सिंह पर आरोप लगाते हुए कहा था कि वह तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) और मेरे बीच लड़ाई लगवा रहे हैं. भाई-भाई के बीच जगदानंद सिंह झगड़ा लगाने का काम कर रहे हैं. इस काम का इनाम उन्हें भगवान देंगे.

( वीडियो साभार : etvbharat.com)

तेजप्रताप यादव ने कहा था कि जगदानंद सिंह पोस्टर लगाने और हटवाने का काम करते हैं. इसी राजनीति में उनका पूरा जीवन बीता है. तेज प्रताप यादव ने इससे पहले ट्वीट करके अपना विरोध जताया था. उन्होंने कहा था कि जिन प्रवासी लोगों से तमाम सलाह ली गई है उनसे पार्टी के हित के बारे में भी जानकारी ले ली जाती. तेजप्रताप ने आकाश को हटाने के फैसले को पार्टी के संविधान के खिलाफ बताया. उन्होंने कहा कि बिना नोटिस दिए किसी को पद से नहीं हटाया जा सकता.

यह भी पढ़ें :  Bihar Floods " पटना में बड़ा नाव हादसा, उफनती गंगा नदी में हाईटेंशन तार से टकराई नाव, 20 लोग लापता, दर्जनों जख्मी.

आपको बता दें कि तेजप्रताप यादव लगातार जगदानंद सिंह पर आरोप लगाते रहे हैं. यहां तक कि जगदानंद सिंह पर पार्टी कार्यालय का गेट बंद करवाने से लेकर उनके आने पर पार्टी कार्यालय में सम्मान नहीं देने तक का आरोप लगा चुके हैं. युवा सम्मेलन के दौरान तेजप्रताप यादव ने कहा था कि जब हमारे पिताजी थे तो गेट खुला रहता था, लेकिन जबसे जगदानंद चाचा आए हैं पार्टी कार्यालय का गेट बंद करा देते हैं.

इसीलिए अब हम बीच में आ गए हैं. हालांकि सार्वजनिक मंच से जिस तरीके से तेजप्रताप यादव जगदानंद सिंह के बारे में अपनी बात रखते थे उससे एक बात तो साफ होने लगी थी कि इस पर कोई ना कोई बड़ी राजनीतिक प्रक्रिया होगी.

दरअसल, तेजप्रताप यादव का पोस्टर राजद कार्यालय के बाहर लगा था. बैठक से ज्यादा इस पोस्टर की चर्चा हुई, क्योंकि तेजस्वी यादव पोस्टर में नहीं दिख रहे थे. हालांकि इस पर तेजप्रताप यादव ने सफाई दी थी कि यह कोई मुद्दा नहीं है. अब फिर ये पोस्टर चर्चा में है, क्योंकि पोस्टर पर कालिख पोत दी गई है. आकाश यादव के मुंह पर कालिख पोती गई थी.

आपको बताएं कि पटना में आयोजित छात्र आरजेडी की बैठक के दौरान तेजप्रताप यादव ने प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह पर हमला बोलते हुए कहा था, ‘जगदानंद सिंह हिटलर शाही चला रहे हैं और पार्टी में मनमानी कर रहे हैं. वह कुर्सी को अपनी बपौती समझ रहे हैं, जबकि कुर्सी किसी की नहीं होती है, कब किसकी कुर्सी चली जाए कोई ठिकाना नहीं होता है.’

यह भी पढ़ें :  Bihar Flood News: गंगा के बढ़ते जलस्तर ने बढ़ाई सरकार की बेचैनी, खुद जायजा लेने निकले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार.

माना जा रहा है कि तेजप्रताप के इस बयान के बाद से जगदानंद सिंह काफी नाराज हुए. उसी दिन से उन्होंने पार्टी कार्यालय भी आना बंद कर दिया था. यहां तक कि स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भी झंडा फहराने के लिए पार्टी दफ्तर नहीं पहुंचे थे. जिस वजह से नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने झंडोत्तोलन किया था, जबकि पार्टी की स्थापना के बाद से प्रदेश अध्यक्ष ही झंडा फहराते रहे हैं. हालांकि 11 दिन बाद बुधवार को राबड़ी आवास में तेजस्वी से मुलाकात के बाद वह पार्टी दफ्तर पहुंचे थे.

दरअसल, तेजप्रताप के करीबी छात्र आरजेडी के अध्‍यक्ष आकाश यादव को जगदानंद सिंह द्वारा पद से हटाए जाने के बाद पार्टी और परिवार, दोनों में बवाल मचा है. तेज प्रताप के तेवर बता रहे हैं कि यह तूफान अब जल्‍दी थमने वाला नहीं है. तेजप्रताप का कहना है कि बिना नोटिस दिए छात्र आरजेडी के अध्यक्ष को पार्टी ने हटा दिया गया है. बिना नोटिस के हटा देना गलत है.

युवा विंग के आकाश यादव को हटाकर गगन कुमार को कमान सौंपने से तेज प्रताप यादव भड़क गये थे. उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि ‘प्रवासी सलाहकार से सलाह लेने में अध्यक्ष जी ये भूल गए की पार्टी संविधान से चलती है और आरजेडी का संविधान कहता है कि बिना नोटिस दिए आप पार्टी के किसी पदाधिकारी को पदमुक्त नहीं कर सकते.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page