Follow Us On Goggle News

Bihar News : राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग में भारी भ्रष्टाचार, दाखिल ख़ारिज करने का कर्मचारी लेता है 10-10 हजार रुपये.

इस पोस्ट को शेयर करें :

 

साहब…अधिकारी कहता है कि मुख्यमंत्री क्या प्रधानमंत्री के यहां जाओ, कुछ नहीं होने वाला, जनता दरबार में सीएम नीतीश से युवक ने की शिकायत.

 

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार सोमवार को जनता दरबार में लोगों की शिकायतें और समस्याएं सुन रहे हैं। मुजफ्फरपुर से आया एक फरियादी मुख्यमंत्री के सामने जोर- जोर से रोने लगा। सीएम नीतीश ने युवक को शांत रहने के लिए बोला और कहा कि आप अपनी समस्या बताएं।

इस पर फरियादी ने कहा कि निबंधन विभाग और राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग में भारी भ्रष्टाचार है। एक-एक कागज निकालने पर 10-10 हजार रुपये लेते हैं। डीसीएलआर कार्यालय और निबंधन विभाग में बिना पैसे का काम नहीं होता। जब हमने कहा कि हम जा रहे हैं मुख्यमंत्री से शिकायत करने। तब अधिकारियों और कर्मियों ने कहा कि मुख्यमंत्री क्या प्रधानमंत्री के यहां चले जाओ, कुछ नहीं होने वाला।

यह भी पढ़ें :  Bihar Crime : समस्तीपुर में नदी में उपलाती मिली युवती का शव, दुष्कर्म कर हत्या की आशंका.

युवक की बात सुनकर मुख्यमंत्री ने तुरंत राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के अपर मुख्य सचिव को फोन लगाया और कहा कि इस मामले को तुरंत दिखवाइए। फोन पर ही सीएम नीतीश ने कहा कि हमारे पास युवक शिकायत लेकर आया है कि जनता दरबार जाने की बात कहने पर वहां का अधिकारी कहता है कि प्रधानमंत्री के यहां जाओ। यह कह रहा कि बिना पैसे का कुछ नहीं होता। इसकी जांच करवाइए और कार्रवाई करिए।

वहीं जमुई से आये एक शख्स ने मुख्यमंत्री से पूर्व मंत्री के एक रिश्तेदार पर जमीन कब्जा का करने आरोप लगाया। युवक ने जनता दरबार में कहा कि जमुई में हमारी जमीन पर कब्जा किया जा रहा है। उस शख्स ने सीएम नीतीश से कहा कि पूर्व मंत्री दामोदर रावत के साले ने दबंगई कर जमीन कब्जा कर लिया है। पुलिस इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं कर रही। मुख्यमंत्री ने गृह विभाग को इस मामले को देखने को कहा।

यह भी पढ़ें :  Good News : नितीश सरकार ने 7 नई फोरलेन सड़कों के निर्माण को दी मंजूरी, जानिए किस-किस रूट को मिलेगा फायदा.

इसके अलावा एक पत्रकार की पत्नी ने मुख्यमंत्री से न्याय की गुहार लगाई। मोतिहारी के पताही से आये एक पत्रकार की पत्नी ने मुख्यमंत्री से कहा कि हमारे पति को साजिश के तहत हत्या के एक मुकदमे में फंसा दिया गया है। वहां के स्थानीय डीएसपी की विरोधियों से मिलीभगत है। मुख्यमंत्री ने महिला को डीजीपी से पास भेज दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि आप वहां जाकर पूरी बात बताइए, वो इस मामले को देखेंगे।

नवादा से आये एक शख्स ने सीएम नीतीश से कहा कि रजौली के डीएसपी और इंस्पेक्टर की शराब माफियाओं से मिलीभगत है। माफियाओं से मिलकर हमें झुठे केस में फंसा दिया है। हर रविवार को डीएसपी-इंस्पेक्टर सरकारी गाड़ी से कोडरमा (झारखंड) जाते हैं। इसकी जांच कराइए। इस पर मुख्यमंत्री ने युवक को डीजीपी के पास भेज दिया।

सोमवार को जनता दरबार में कई ऐसे मामले आये, जिसमें यह बात सामने आई कि लोक शिकायत में पारित आदेश का अनुपालन नहीं किया जा रहा। लगातार यह शिकायत मिलने के बाद सीएम नीतीश अचंभित हो गये। उन्होंने कहा कि हाल ही में मीटिंग हुई, तब तो इस तरह के मामले नहीं आये।

यह भी पढ़ें :  Amazing Love Story : मां-बाप ने बॉडी बनाने भेजा था जिम, ट्रेनर के साथ फुर्र हो गयी बेटी.

अब हमने जनता दरबार शुरू किया तो इस बात की जानकारी मिल रही कि अंचल अधिकारी व अन्य अधिकारी आदेश का पालन नहीं कर रहे। आज 6-7 मामले सामने आ गये। यह तो काफी चिंता विषय है। इसके बाद मुख्यमंत्री ने चीफ सेक्रेट्री को बुलाया और कहा कि देखिए यह क्या हो रहा है। आप लोग इस मामले को देखिए।


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page