Follow Us On Goggle News

RJD परिवार में अंतरकलह : आर-पार के मूड में तेज प्रताप, मझधार में ‘फंसे’ लालू यादव.

इस पोस्ट को शेयर करें :

 

तेज प्रताप यादव ने प्रदेश अध्‍यक्ष जगदानंद सिंह ( Jagdanand Singh ) के प्रति आक्रामक रुख अख्तियार कर लिया है. कहा जा रहा है कि राजद में वर्चस्व की लड़ाई अंजाम के रास्ते पर बढ़ चली है. बताया जा रहा है कि यह पार्टी नहीं पूरी तरह परिवार का मामला है. ऐसे में सबकी नजर लालू यादव पर है.

राजद ( RJD ) परिवार में तेज प्रताप ( Tej Pratap Yadav ) और तेजस्वी ( Tejashwi Yadav ) के बीच अंतरकलह अब खुलकर सामने आ रहा है. तेज प्रताप यादव भले ही तेजस्वी यादव के खिलाफ कुछ बोल नहीं रहे हो लेकिन जगदानंद सिंह और संजय यादव ( Sanjay Yadav ) के खिलाफ जिस प्रकार से तेज प्रताप खुलकर आरोप लगा रहे हैं, साफ है कि निशाना तेजस्वी के तरफ है. ऐसे में लालू प्रसाद यादव ( Lalu Yadav ) के लिए एक बड़ी चुनौती है कि किस का साथ दें और किसका साथ ना दें.

तेज प्रताप यादव पहले भी तेजस्वी के पीए मणी यादव के खिलाफ मोर्चा खोला था. अब तेजस्वी यादव के खासम खास और नजदीकी माने जाने वाले संजय यादव के खिलाफ मोर्चा खोला है. तेज प्रताप यादव एक बार फिर से यह आरोप लगा रहे हैं कि दोनों भाइयों के बीच लड़ाई लगाने की कोशिश हो रही है और शकुनी से लेकर धृतराष्ट्र तक बता रहे हैं.

यह भी पढ़ें :  75th Independence Day : पटना में सीएम नीतीश कुमार ने फहराया तिरंगा, कहा- आज का दिन हमारे लिए गर्व की बात.

तेज प्रताप यादव ने यह भी कहा है कि ना तो तेजस्वी से बात हुई है और ना ही लालू प्रसाद यादव से लेकिन जल्दी ही तेजस्वी यादव से भी बात करेंगे और लालू प्रसाद यादव से यानी कि पूरा मामला राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के पास जाना तय है.

तेज प्रताप यादव पार्टी में अपनी उपेक्षा से नाराजगी पहले भी जताते रहे हैं और राजनीतिक विशेषज्ञ तो यहां तक कहते हैं कि जिस प्रकार से तेजस्वी यादव पार्टी पर लगातार अपनी पकड़ मजबूत कर रहे हैं, तेज प्रताप यादव भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराना चाहते हैं लेकिन अपनी उपस्थिति दर्ज नहीं करा पा रहे हैं.

 

इसके साथ प्रदेश अध्यक्ष का साथ नहीं मिलना, उन्हें खलता है और इसलिए इस बार खुलकर प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है और आर-पार की लड़ाई करने की बात कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें :  पटना पहुंचे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, एयरपोर्ट पर राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने किया स्वागत | Bihar Vidhan Sabha Centenary Celebrations

तेज प्रताप यादव ने तो यहां तक ऐलान कर दिया है कि यदि जगदानंद के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई तो पार्टी के किसी कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगे. गौरतलब है कि पूर्व प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे पर भी तेज प्रताप यादव ने कई आरोप लगाए थे और उन्हें तेज प्रताप यादव के कारण ही हटना पड़ा था. अब जगदानंद सिंह तेज प्रताप यादव के निशाने पर हैं.

तेज प्रताप यादव हमेशा लालू यादव से अपनी बात मनवाते रहे हैं, लेकिन इस बार मामला पेचीदा होता जा रहा है क्योंकि तेजस्वी यादव साफ दिख रहे हैं जगदानंद सिंह के साथ खड़े हैं. यही नहीं, जगदानंद सिंह लालू यादव के मनाने पर ही फिर से पार्टी कार्यालय आए हैं. ऐसे में लालू यादव भी फिलहाल जगदानंद सिंह के साथ दिख रहे हैं.

 

इसके बावजूद लालू यादव के लिए तेज प्रताप यादव के खिलाफ कोई बड़ा एक्शन लेना आसान नहीं है. जदयू नेता हमेशा आरोप लगाते रहे हैं कि लालू प्रसाद यादव पुत्र मोह में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को हमेशा अपमानित करते रहे हैं. इसलिए जगदानंद सिंह को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाना फिलहाल आसान नहीं है और उसमें भी जब तेजस्वी यादव उनके साथ खड़े हो.

यह भी पढ़ें :  Bihar Crime : धर्म परिवर्तन के लिए यूपी के कन्नौज से भगाकर लाई गई लड़की सहरसा में बरामद, फेसबुक पर हुई थी दोस्ती.

लेकिन तेज प्रताप यादव जगदानंद सिंह पर जिस प्रकार से आरोप लगा रहे हैं ऐसे में उनके लिए प्रदेश अध्यक्ष पद पर काम करना भी आसान नहीं है. हालांकि पूरे मामले में अब तक लालू परिवार के तरफ से चुप्पी साध रखी गई है ना तो लालू प्रसाद यादव की तरफ से कुछ बोला गया है और ना ही तेजस्वी यादव कुछ बोल रहे हैं. ऐसे में सबकी नजर लालू प्रसाद यादव पर ही है कि पूरे मामले पर वे क्या कदम उठाते हैं.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page