Follow Us On Goggle News

CM of Bihar : क्या आप जानते हैं बिहार के पहले मुख्यमंत्री कौन थे ? 75 सालों में 33 लोग बन चुके हैं मुख्यमंत्री. | List of chief ministers of Bihar

इस पोस्ट को शेयर करें :

अक्सर यह कहा जाता है कि बिहार में अच्छे नेता नहीं हुए, अच्छे मुख्यमंत्री नहीं हुए और बिहार पिछड़ गया। लेकिन क्या आप जानते हैं कि बिहार का अब तक सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री कौन था? बिहार केसरी के नाम से विख्यात डॉ. श्रीकृष्ण सिंह बिहार के सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री थे और मुख्यमंत्री रहते हुए ही 31 जनवरी 1961 में उनका निधन हुआ था.

 

CM of Bihar  : क्या आप जानते हैं कि बिहार का अब तक सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री कौन था? बिहार केसरी के नाम से विख्यात डॉ. श्रीकृष्ण सिंह बिहार के सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री थे और मुख्यमंत्री रहते हुए ही 31 जनवरी 1961 में उनका निधन हुआ था। इनका जन्म 21 अक्टूबर 1887 को हुआ था।

नीतीश कुमार लंबे समय से बिहार के मुख्यमंत्री हैं, लेकिन अभी उन्होंने लालू-राबड़ी का संयुक्त और श्रीकृष्ण सिंह के अकेले का रिकॉर्ड नहीं तोड़ा है। श्रीकृष्ण सिंह को ही बिहार का नंबर वन मुख्यमंत्री कहा जाता है, वे राज्य के प्रथम मुख्यमंत्री थे और करीब 14 साल पद पर रहे थे। हालांकि वर्ष 1937 से 1939 तक के समय को भी मिला दें, तो वे कुल 16 वर्ष से ज्यादा समय तक बिहार के मुख्यमंत्री रहे थे। उन्होंने 1946 में फिर मुख्यमंत्री का पद संभाल लिया था और अपने निधन 1961 तक पद पर रहे। ध्यान रहे, बिहार के वर्तमान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पद पर रहते 13वां वर्ष चल रहा है।

 

बिहार के मुख्यमंत्री : भारत के संविधान के अनुसार, बिहार का राज्यपाल राज्य का कानूनी प्रमुख होता है, लेकिन वास्तविक कार्यकारी अधिकार मुख्यमंत्री (chief ministers of Bihar) के पास होता है।

बिहार विधान सभा के चुनावों के बाद, राज्यपाल आमतौर पर सरकार बनाने के लिए बहुमत वाली पार्टी (या गठबंधन) को आमंत्रित करता है। राज्यपाल मुख्यमंत्री (chief ministers of Bihar) की नियुक्ति करता है, जिसकी मंत्रिपरिषद सामूहिक रूप से विधानसभा के लिए जिम्मेदार होती है। यह देखते हुए कि उनके पास विधानसभा का विश्वास है, मुख्यमंत्री का कार्यकाल पांच साल के लिए होता है और इसकी कोई अवधि सीमा नहीं होती है।

1946 से 23 लोग बिहार के मुख्यमंत्री (chief ministers of Bihar) रहे हैं। उद्घाटन धारक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के श्रीकृष्ण सिन्हा थे, उनके पास सबसे लंबी सत्ता भी है। वर्तमान पदाधिकारी नीतीश कुमार हैं, जो 22 फरवरी 2015 से सत्ता में हैं।

बिहार मुख्यमंत्रियों की सूची और कार्यकाल :

[table “35” not found /]

नंबर वन मुख्यमंत्री श्रीकृष्ण सिंह का बिहार कैसा था? :

स्वतंत्रता सेनानी श्रीकृष्ण सिंह को बिहार की सेवा के लिए एक लंबा समय मिला और उनके समय बिहार की आर्थिक, सामाजिक स्थिति बहुत अच्छी थी। बिहार की गिनती तबके अगड़े राज्यों में होती थी। बिहार उनके दौर में देश का सबसे अच्छा प्रशासित राज्य था। कहा जाता है, श्रीकृष्ण सिंह के वर्ष 1961 में पद से हटने के बाद बिहार के पतन का दौर शुरू हुआ।

यह भी पढ़ें :  Bihar Unlock : अब बिहार में सामान्य रूप से खुलेंगे शिक्षण संस्थान, धार्मिक स्थल सहित दुकानें, शॉपिंग मॉल, राजनीतिक सभाओं की मिली छूट.

श्रीकृष्ण सिंह के योगदान :

श्रीकृष्ण सिंह जमींदारी को खत्म करने वाले पहले मुख्यमंत्रियों में वे शामिल थे। इसके अलावा दलितों को वैद्यनाथ मंदिर में प्रवेश दिलवाने के लिए भी उन्हें याद किया जाता है। उनके समय बिहार बहुत अच्छी तरह से प्रशासित था। वे सक्रिय स्वतंत्रता सेनानी रहे थे। बिहार में नमक सत्याग्रह में इनकी बड़ी भूमिका थी। वर्ष 1937 में वे बिहार में कांग्रेस मंत्रिमंडल के अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री रहे थे।

बिहार औद्योगिक विकास के मामले में भी उनके समय आगे बढ़ रहा था। बरौनी रिफाइनरी, बोकारो स्टील प्लांट सहित करीब 10 परियोजनाएं उनके समय ही बिहार में स्थापित हुईं। उनके समय में बिहार से पलायन लगभग रुक गया था, लेकिन उनके बाद बिहार में विकास की रफ्तार धीमी हो गई।

बिहार ने इन मुख्यमंत्रियों को खूब समय दिया :

श्रीकृष्ण सिंह 5419 दिन बिहार के मुख्यमंत्री रहे थे। नीतीश कुमार लगभग 4480 दिन से मुख्यमंत्री हैं। लालू प्रसाद यादव और राबड़ी देवी को अलग-अलग मुख्यमंत्री के रूप में नीतीश कुमार पीछे छोड़ चुके हैं, लेकिन संयुक्त रूप से अभी भी नीतीश कुमार बिहार पर राज्य करने के मामले में तीसरे स्थान पर हैं। लालू-राबड़ी ने मिलकर 5407 दिन मुख्यमंत्री पद संभाला था। एकल रूप से राबड़ी देवी अपने पति लालू प्रसाद यादव से ज्यादा दिन तक बिहार की मुख्यमंत्री रही हैं। बिहार की सेवा का मौका पाने के मामले में मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा पांचवें स्थान पर हैं, वे 1978 दिन बिहार के मुख्यमंत्री रहे। बिहार के यही पांच नेता हैं, जिन्हें बिहार के लोगों ने पांच साल से ज्यादा का समय सेवा के लिए दिया।

शपथ लेने में सबसे आगे नीतीश कुमार :

नीतीश कुमार अब तक सर्वाधिक 6 बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ले चुके हैं। श्रीकृष्ण सिंह ने चार बार शपथ ली थी। भोला पासवान शास्त्री, राबड़ी देवी और जगन्नाथ मिश्रा तीन-तीन बार शपथ ले चुके हैं, जबकि कर्पूरी ठाकुर और लालू प्रसाद यादव को दो-दो बार मुख्यमंत्री पद की शपथ का मौका मिला।

बिहार के मुख्यमंत्री और पद पर उनके दिन :

1 – श्रीकृष्ण सिंह – 5419
2 – नीतीश कुमार – 4580
3 – राबड़ी देवी – 2718
4 – लालू प्रसाद यादव – 2689
5 – जगन्नाथ मिश्रा – 1978
6 – के. बी. सहाय – 1250
7 – बिन्देश्वरी दुबे – 1068
8 – बिनोदानंद झा – 926
9 – कर्पूरी ठाकुर – 831
10 – अब्दुल गफूर -649
11 – चंद्रशेखर सिंह – 577
(अन्य 12 नेता 500 से कम दिन बिहार के मुख्यमंत्री रहे हैं)

यह भी पढ़ें :  Viral Video : बेतिया में भीड़ ने नाबालिग को पोल से बांधकर दमभर पीटा...इससे भी मन नहीं भरा तो मुंडवा दिया सिर.

बिहार में अब तक 33 मुख्यमंत्री बन चुके हैं और नीतीश कुमार, राबड़ी देवी,जगन्नाथ मिश्रा और भोला पासवान सबसे ज्यादा तीन बार मुख्यमंत्री रहे.

आइए डालते हैं बिहार के अब तक के मुख्यमंत्रियों पर एक नजर:

श्रीकृष्ण सिंह : कांग्रेस के कृष्णा सिंह बिहार के पहले मुख्यमंत्री बने। वे 1946 से लेकर 1961 तक इस पद पर रहे।

दीप नारायण सिंह : दीप नारायण बिहार के दूसरे मुख्यमंत्री बने लेकिन वे केवल 18 दिन तक पद पर रह पाए। वे एक फरवरी 1961 को इस सीएम पद पर चुने गए और 18 फरवरी को पद से हट गए।

बिनोदानंद झा : दीप नारायण सिंह के हटने के बाद बिनोदानंद झा इस पद पर आए। वे दो साल और आठ महीने तक पद पर रहे।

कृष्ण वल्लभ सहाय : बिहार के सीएम पद पर चौथे व्यक्ति के रूप में केबी सहाय बैठे। वे लगभग चार साल तक पद पर रहे।

महामाया प्रसाद सिन्हा : महामाया प्रसाद सिन्हा बिहार के पहले गैर कांग्रेसी मुख्यमंत्री थे। वे इस पद पर केवल 10 महीने तक रह पाए।

सतीश प्रसाद सिंह : सतीश प्रसाद सिंह केवल पांच दिन तक ही सीएम की कुर्सी पर बैठ पाए। सिंह 28 जनवरी को पद पर बैठे और एक फरवरी को हट गए।

भोला पासवान शास्त्री : शास्त्री तीन बार बिहार के सीएम पद पर रहे। पहली बार वे 22 मार्च 1968 को सीएम बने और तीन महीने व सात दिन तक पद पर रह पाए। इसके बाद 22 जून 1969 को पद पर आए और 13 दिन तक सीएम रहे। तीसरी बार वे दो जून 1971 को एक बार फिर से मुख्यमंत्री बने, इस बार सात महीने तक पद पर रहे।

राष्ट्रपति शासन

हरिहर सिंह : बिहार के नौवें सीएम हरिहर सिंह तीन महीने और 26 दिन तक सीएम पद पर रहे।

राष्ट्रपति शासन

दरोगा प्रसाद राय : दरोगा प्रसाद राय 10 महीने तक पद मुख्यमंत्री पद पर रहे।

कर्पूरी ठाकुर : कर्पूरी ठाकुर दो बार बिहार के मुख्यमंत्री बने। पहली बार वे 1970 में सीएम बने और 163 दिन तक ही पद पर रह पाए। इसके बाद 1977 में राष्ट्रपति शासन हटने के बाद फिर इस पद पर बैठे और दो साल तक रहे। पहली बार वे सोशलिस्ट पार्टी के नेता के रूप में और दूसरी बार जनता पार्टी के रूप में सीएम बने।

यह भी पढ़ें :  Bihar Flood : बाढ़ से बेहाल बिहार, घरों में घुसा गंगा के बाढ़ का पानी, सांप-बिच्छू के कारण जीना हुआ मुश्किल.

राष्ट्रपति शासन

केदार पांडे : केदार पांडे बिहार के 14वें सीएम बने। वे एक साल और चार महीने तक मुख्यमंत्री रहे।

अब्दुल गफूर : बिहार के इकलौते अल्पसंख्यक मुख्यमंत्री। वे 21 महीने तक मुख्यमंत्री रहे।

डॉ. जगन्नाथ मिश्रा : डॉ. मिश्रा तीन बार बिहार सीएम रहे। पहली बार अप्रेल 1975 में सीएम बने और दो साल तक पद पर रहे। इसके बाद जून 1980 में फिर से प्रदेश के मुखिया बने और तीन साल तक रहे। दिसंबर 1989 में वे फिर सीएम बने और तीन महीने तक मुख्यमंत्री रहे। उनका अंतिम कार्यकाल कांग्रेस का सत्ता में अंतिम

राष्ट्रपति शासन

रामसुंदर दास : जनता पार्टी से बिहार के सीएम बनने वाले वे दूसरे नेता थे। वे 10 महीने तक पद पर रहे।

राष्ट्रपति शासन

चन्द्रशेखर सिंह : चन्द्रशेखर 19 महीने तक सीएम रहे। वे बिहार के 20वें सीएम थे।

बिंदेश्वरी दुबे : बिहार के 21वें मुख्यमंत्री। तीन साल तक पद पर रहे।

भगवत झा आजाद : 22वें मुख्यमंत्री के रूप में एक साल के लिए पद पर रहे।

सत्येन्द्र नारायण सिन्हा : 23वें मुख्यमंत्री। नौ महीने तक सीएम रहे।

लालू प्रसाद यादव : लालू दो बार मुख्यमंत्री पद पर रहे। पहली बार मार्च 1990 में वे पद पर बैठे और 1995 तक रहे। इसके बाद 1995 से 1997 तक मुख्यमंत्री बने। चारा घोटाले के चलते पद छोडऩा पड़ा।

राष्ट्रपति शासन : 11 Feb 1999 – 09 Mar 1999

राबड़ी देवी : लालू के हटने के बाद उन्होंने अपनी पत्नी राबड़ी देवी को सीएम बना दिया। वे तीन बार सीएम बनी। पहली बार 1997 में बनी और 1999 में हट गई। इसक बाद राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया। नौ मार्च 1999 में वे फिर से इस पद पर बैठी और दो मार्च 2000 तक रही। इसके बाद 11 मार्च को फिर से इस पद पर बैठी और पांच साल तक पद पर रही।

नीतीश कुमार : नीतीश कुमार भी तीन बार इस पद पर रह चुके हैं। वे पहली बार 1999 में आठ दिन तक सीएम रहे। इसके बाद 2005 में वे फिर से सीएम बने और 20 मई 2014 तक रहे। अगली बार वे इसी साल फरवरी में सीएम बने और अभी तक पद पर हैं।

जीतन राम मांझी : मांझी नीतीश कुमार के हटने के बाद सीएम बने। वे नौ महीने बाद ही उन्हें हटा दिया गया। वे बिहार के पहले महादलित सीएम थे।

नीतीश कुमार : 2017 में वे इसी साल फरवरी में सीएम बने और अभी तक पद पर हैं।


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page