Follow Us On Goggle News

Breaking News : सीढ़ियों से फिसले Lalu Yadav, दाहिने कंधे की हड्डी टूटी, कमर में भी आई गंभीर चोट.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Lalu Yadav Accident : राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के साथ रविवार को एक हादसा हो गया है. राबड़ी आवास में सीढ़ी उतरने के दौरान पूर्व सीएम लालू यादव (Bihar Former Chief Minister Lalu Prasad Yadav) गिर पड़े. आनन फानन में श्री यादव को अस्पताल ले जाया गया. बताया जा रहा है कि उनके दाहिने कंधे की हड्डी टूट गई है.

Lalu Yadav Accident  : आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का रविवार को सीढ़ियों से उतरने के दौरान पांव फिसल गया जिससे वो चोटिल हो गए. लालू यादव (Lalu Yadav) के दाहिने कंधे और कमर में गंभीर चोट आई है जिसके बाद तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) आनन-फानन में अपने पिता को लेकर पटना (Patna) के ककड़बाग स्थित एक निजी अस्पताल पहुंचे. जहां डॉक्टरों की टीम पहले से लालू यादव का इंतजार कर रही थी. जैसे ही लालू यादव अस्पताल पहुंचे डॉक्टरों ने सबसे पहले उनका MRI करवाया. MRI की रिपोर्ट में लालू के दाहिने कंधे की हड्डी टूटने और उनके कमर में बेहद गंभीर चोट की बात सामने आई है. इसके बाद डॉक्टरों की टीम ने लालू यादव के कंधे को मेडिकल पट्टी लगा कर बांध दिया ताकि हड्डी जुड़ सके.

यह भी पढ़ें :  RJD परिवार में अंतरकलह : आर-पार के मूड में तेज प्रताप, मझधार में 'फंसे' लालू यादव.

इसके बाद डॉक्टरों ने लालू यादव को मेडिसिन दिया और उन्हें आराम करने की सलाह दी. कुछ देर इस अस्पताल में आराम करने के बाद लालू यादव अपनी पत्नी पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के 10 सर्कुलर रोड सरकारी आवास लौट आए.

पटना के दो बड़े डॉक्टरों से चोटिल लालू यादव ने ली सलाह :

लालू के करीबियों से मिली जानकारी के मुताबिक लालू यादव ने अपनी MRI रिपोर्ट पटना के जाने-माने हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉक्टर भरत के पास भेज कर उनसे भी राय ली है. डॉ. भरत का पटना के शास्त्री नगर थाना क्षेत्र के पुनाईचक में निजी अस्पताल है. डॉ. भरत ने लालू यादव की MRI रिपोर्ट को देखने के बाद उन्हें कंकड़बाग स्थित निजी अस्पताल जहां लालू को इलाज के लिए उनके परिजन ले गए थे, उनके द्वारा दी गई सलाह और मेडिसिन को उचित बताते हुए उसे निरंतर फॉलो करने की सलाह दी है.

आरजेडी के सूत्रों से प्राप्त जानकारी के मुताबिक इलाज के बाद लालू यादव को थोड़ा आराम है. उनका दर्द कम हुआ है.

यह भी पढ़ें :  Love Story : देवर के प्यार में दीवानी हुई भाभी का पंचायत ने करवायी शादी, अब इस प्रेम कहानी के चर्चे हैं सरेआम.

 

लालू यादव खतरे से बाहर:

लालू यादव को कंकड़बाग के एक अस्पताल में इलाज के लिए ले जाया गया. डॉक्टरों ने तुरंत ही इलाज शुरू कर दिया. सबसे पहले उनका एक्स-रे हुआ फिर पूरे बॉडी की MRI की गई. रिपोर्ट के आधार पर पता चला कि उनके कंधे पर माइग्रेन फ्रेक्चर है. डॉक्टरों ने उनका कच्चा प्लास्टर लगाकर उन्हे डिस्चार्ज कर दिया. फिलहाल लालू यादव घर आ गए हैं. उनकी हालत खतरे से बाहर है.

 

किडनी की बीमारी से भी हैं ग्रसित:

गौरतलब है कि लालू यादव पहले से ही किडनी समेत अन्य दूसरी बीमारी से ग्रसित हैं. हाल ही में लालू यादव जेल से जमानत पर रिहा होकर दिल्ली से पटना पहुंचे थे. लालू यादव किडनी ट्रांसप्लांट के लिए सिंगापुर भी जाने वाले हैं. आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव पिछले एक साल से सिंगापुर के डॉक्टर के संपर्क हैं. पिछले साल नवंबर में भी इस बात की चर्चा हुई थी कि वे सिंगापुर में अपना किडनी ट्रांसप्लांट करा सकते हैं.

 

किडनी ट्रांसप्लांट के लिए जा सकते हैं सिंगापुर:

यह भी पढ़ें :  Medical College in Bihar : मेडिकल कॉलेज का हब बनेगा बिहार, अगले 4 सालों में इन ज़िलों में शुरू होंगे मेडिकल कॉलेज.

लालू कई बीमारियों से जूझ रहे हैं, जिनमें सबसे बड़ी परेशानी उन्हें हुई टाइप-2 डायबिटीज और ब्लड प्रेशर हैं. उनका इलाज करने वाले दोनों सीनियर डॉक्टरों के अनुसार, लालू प्रसाद 15 बीमारियों से पीड़ित हैं. इनमें सबसे बड़ी चिंता उनकी अनियंत्रित डायबिटीज है, जो पूरी तरह इन्सुलिन पर निर्भर हैं. किडनी ट्रांसप्लांट के सिंगापुर जाने की पासपोर्ट वाली अड़चन भी कोर्ट से दूर हो गई है. हालांकि सीढ़ियों से गिर जाने के बाद लालू यादव के समर्थक काफी चिंतित हैं.

 

जमानत पर जेल से बाहर हैं लालू यादव :

बता दें कि पिछले दिनों दिल्ली से पटना लौटे लालू यादव राबड़ी देवी के सरकारी आवास में रह कर स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं. कई साल तक जेल में रहने के बाद लालू यादव बीते दिनों जेल से जमानत पर बाहर आए हैं. स्वास्थ्य समस्याओं की वजह से वह काफी दिनों से अस्पताल में थे. इन दिनों पटना में पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी को आवंटित सरकारी आवास में ही लालू प्रसाद यादव रह रहे हैं.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page