Follow Us On Goggle News

Bihar Sand Rate: बिहार में बालू का पर्याप्त भंडार, फिर भी दोगुनी कीमत वसूल रहे माफिया.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Bihar Sand Rate: बिहार में खनन बंद होते ही लगातार बालू की कीमतों में बढ़त देखी गई है। हालांकि, यह जानकारी दी गई है कि बालू की भंडारण पर्याप्त मात्रा में है फिर भी इसके लिए जमकर कालाबाजारी हो रही है। कुछ ही समय में बालू की कीमतें दोगुनी हो चुकी है। जिससे घर बनाने एवं कंस्ट्रक्शन से जुड़े लोगों के लिए चिंता काफी बढ़ गई है।

बालू को लेकर कई वादे किए हैं। लेकिन, आम जनता बालू की बढ़ती कीमतों को लेकर सस्ती बालू की खोज में दर-दर भटक रहे हैं। फिर भी उन्हें जरूरत के मुताबिक बालू नहीं मिल पा रहा अगर मिल भी रहा है। तो इसके लिए उन्हें दोगुनी कीमत चुकानी पड़ रही है।

खनन बंद होने के बाद बालू की कालाबाजारी चरम पर है। आलम यह है कि बाजार में बालू की कीमत दोगुनी से ज्यादा हो गई है। आम जनता बालू के लिए दर-दर भटक रही है। फिर भी उन्हें जरूरत के मुताबिक बालू नहीं मिल पा रहा है। अगर बालू मिल भी रहा है तो इसके लिए उन्हें दोगुनी से ज्यादा कीमत चुकानी पड़ रही है।

यह भी पढ़ें :  Bihar Constable Recruitment 2022 : बिहार होमगार्ड कांस्टेबल भर्ती पीईटी की नई तिथियां जारी, ऐसे डाउनलोड करें एडमिट कार्ड.

इस समय बिहार में बालू माफिया और बिचौलियों की बल्ले-बल्ले हो रही है। वे जरूरतमंदों से मनमानी कीमत वसूल रहे हैं। इसके पीछे बालू की किल्लत बताई जा रही है। हालांकि सरकार का दावा है कि सभी जिलों में बालू के पर्याप्त भंडार हैं। कहीं कोई दिक्कत नहीं है।

 

बिहार में हर महीने औसतन 4 से 5 करोड़ घनफीट बालू की खपत होती है। इस आधार पर विभाग ने कम से कम 16 करोड़ घनफीट बालू के स्टॉक की योजना बनाई। इसके बाद भी सूबे में न तो अवैध खनन पूरी तरह से बंद हो पाया और न ही बालाबाजारी रुक पाई। सूबे में बड़े पैमाने पर बालू का अवैध कारोबार हो रहा है। कारोबारी खुलेआम बालू का अवैध खनन कर रहे हैं और फिर उसे मनमाने दाम पर लोगों को बेच रहे हैं।

राजधानी पटना समेत तमाम जिलों में बालू के लिए लोग बाजार में भटक रहे हैं। कोर्ट के निर्देश के तहत इस साल एक जून से ही सूबे में बालू का खनन बंद कर दिया गया। कोर्ट के आदेश के बाद नए सिरे से बालू घाटों की बंदोबस्ती होनी है। हालांकि एनजीटी (राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण) के प्रावधानों के तहत बिहार में एक जुलाई से 30 सितंबर तक नदियों में बालू का खनन नहीं होगा। यह मानसून का समय होता है और इस दौरान नदियों में काफी होने के चलते खनन कार्य बंद रहता है। ऐसे में 3 महीने तक बालू का खनन पर पूरी तरह प्रतिबंध रहता है। इसलिए जरूरतमंदों को पहले के स्टॉक से ही बालू की आपूर्ति की जाती है।

यह भी पढ़ें :  Big News : लालू यादव की सजा पर आज होगा फैसला, जानिए चारा घोटाला मामले से जुड़ा ताजा अपडेट.

 

100 घनफीट बालू के लिए वसूल रहे 8000 रुपये: Bihar Sand Rate

बिहार में अभी 100 घनफीट बालू के लिए बिचौलिए 8000 रुपये तक वसूल रहे हैं, जबकि इसकी औसत कीमत 3500 से 4000 रुपये ही है। यानी कि लोगों से दोगुने दाम वसूले जा रहे हैं। हालांकि अलग-अलग जिलों में बालू की कीमत भी अलग-अलग तय है। इसमें परिवहन की लागत आदि को ध्यान रखकर दाम तय किए जाते हैं।

दो साल पहले तक राज्य के 24 जिलों में बालू का खनन हो रहा था। बाद में यह सिमटकर एक तिहाई ही रह गया और केवल 8 जिलों में बालू का खनन होने लगा। बाद में बालू खनन वाले जिलों की संख्या बढ़कर 16 हो गई। अब राज्य सरकार पूरे सूबे में बालू खनन की तैयारी कर रही है। इसके लिए सभी जिलों में बालू घाटों के बंदोबस्ती की योजना बनाई गई है। सभी जिलों में बालू की उपलब्धता को लेकर विभाग ने सर्वे रिपोर्ट तैयार की है। इसी को आधार बनाकर पूरे प्रदेश में बालू घाटों की बंदोबस्ती होगी।


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page