Follow Us On Goggle News

Bihar Politics : ‘लालटेन’ में लगी आग को कौन बुझाए…क्या लालू परिवार में ‘पोस्टर’ ही सबकुछ है?

इस पोस्ट को शेयर करें :

राजद (RJD) के पोस्टर पर किसी ने कालिख पोत दी है. तस्वीर में साफ देखा जा सकता है कि छात्र राजद अध्यक्ष आकाश यादव के चेहरे पर कालिख पोती गई है. कयास लगाए जा रहे हैं कि तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) के समर्थकों ने गुस्से में ऐसा किया है. आखिर सवाल ये उठता है कि राजद में विभेद की सियासत क्यों है?

बिहार में लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) की राष्ट्रीय जनता दल (Rashtriya Janata Dal) में सब कुछ ठीक-ठाक नहीं चल रहा है. 24 घंटे के अंदर जिस तरीके के घटनाक्रम हुए उससे एक बात तो साफ है कि परिवार में ही राजद (RJD) की जो राजनीति उलझ गई है, उससे पार्टी को बाहर निकालना जरूरी है.

तेज प्रताप यादव का पोस्टर राजद कार्यालय के बाहर लगा था. बैठक से ज्यादा इस पोस्टर की चर्चा ज्यादा हुई, क्योंकि तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) पोस्टर में नहीं दिख रहे थे. हालांकि इस पर तेजप्रताप यादव (Tejpratap Yadav) ने सफाई दी थी कि ये कोई मुद्दा नहीं है. अब फिर ये पोस्टर चर्चा में है, क्योंकि पोस्टर में कालिख पोत दी गई है. छात्र राजद अध्यक्ष आकाश यादव के मुंह पर कालिख पोती गई है.

यह भी पढ़ें :  Bihar Flood : भोजपुर में गंगा में डूबकर 3 बहनों की दर्दनाक मौत, पैर फिसलने की वजह से हुआ हादसा.

युवा कार्यक्रम में तेज प्रताप ने अपनी पार्टी के नेताओं के खिलाफ बहुत कुछ कहा भी था, लेकिन उसके बाद जो पार्टी में हुआ वो निश्चित तौर पर एक बार मंथन करने की जरूरत है. साथ ही लालू सहित तमाम वैसे नेताओं को सोचने की भी जरूरत है, जिनके जिम्मे कल की राजद होगी. उनकी सियासी लड़ाई अभी से यह डगर क्यों ले रही है.

अब सवाल यह उठ रहा है कि आखिर कौन है जिन्होंने तेज प्रताप के पोस्टर को वहां से हटाया और पोस्टर पर कालिख पोत दी और अब वहां तेजस्वी यादव का फोटो लग गया है. जबकि तेजप्रताप जोर-जोर से यह बात कह रहे हैं कि तेजस्वी उनके अर्जुन हैं, उनके मुख्यमंत्री हैं.

राजद में विभेद की सियासत क्यों है, इस पर पार्टी को गौर करना होगा. लेकिन, उससे ज्यादा जरूरी लालू परिवार को इस चीज को पाटने की भी है कि कहीं तेज प्रताप और तेजस्वी के बीच में सियासत में कोई ऐसी रफ्तार तो नहीं पकड़ ली है जिससे ‘तेज रफ्तार तेजस्वी सरकार’ का नारा ही अधूरा हो जाएगा.

यह भी पढ़ें :  Bihar Prithvi Diwas 2021 : एक साल में पांच करोड़ पौधे लगाने का CM नीतीश ने दिया टारगेट, कहा- हरियाली है बहुत जरूरी.

दरअसल, 11 जून को पार्टी के 25वें स्थापना दिवस के मौके पर लगाए गए पोस्टरों में तेजप्रताप की तस्वीर नहीं थी. ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि ये पोस्टर एक तरह से सियासी बदला है. तब रिपोर्ट के मुताबिक पोस्टर में जगह न मिलने पर तेजप्रताप यादव नाराज थे. मंच से भी ये नाराजगी दिखी थी. हालांकि छात्र आरजेडी के पोस्टर पर तेजस्वी के नहीं होने पर तेजप्रताप ने सफाई दी है.

(साभार : etvbharat.com)


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page