Follow Us On Goggle News

Bihar Panchayat New Rule: पंचायती राज विभाग में मुखिया के बाद अब इनका भी पॉवर ख़त्म.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Bihar Panchayat New Rule: बिहार में त्रिस्‍तरीय पंचायती राज के तहत जिला परिषद की व्‍यवस्‍था में महत्‍वपूर्ण बदलाव किया गया है। अब पंचायती राज विभाग ने जिलों में पोस्टेड जिला पंचायती राज पदाधिकारी (डीपीआरओ) को जिला परिषद का काम भी सौंप दिया है। उन्हें जिला परिषद का अपर मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी (एसीईओ) बनाया गया है। सभी डीपीआरओ को निर्देश दिया गया है कि वो शीघ्र एसीईओ का प्रभार ग्रहण करते हुए उसकी सूचना संबंधित डीएम को दें और विभाग के मुख्यालय को भी सूचित करें। पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने कहा कि सरकार के द्वारा ऐतिहासिक निर्णय लिया गया कि अब उप विकास आयुक्त जिला परिषद का कार्य नही देखेंगे।

पंचायती राज मंत्री ने बताया कानून बनाकर की गई नई व्‍यवस्‍था: Bihar Panchayat New Rule

पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी ने बताया कि इससे पहले उप विकास पदाधिकारी (डीडीसी) मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी होते थे। उन्होंने बताया कि कानून बनाकर नई व्यवस्था की गई है। पंचायती राज विभाग का आदेश सभी जिलाधिकारियों को दिया गया है। उनसे अपेक्षा की गई है कि तत्काल प्रभाव से नई व्यवस्था लागू करें। हालांकि ग्रामीण विकास से जुड़ी जिला परिषद की योजनाओं के कार्यान्वयन में डीडीसी की भूमिका में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

यह भी पढ़ें :  Bihar BSSC CGL 2022: बिहार में बम्पर बहाली! सचिवालय सहायक भर्ती परीक्षा में किताब ले जाने की छूट.

पंचायत राज पदाधिकारी को प्रखंड समिति का भी प्रभार: Bihar Panchayat New Rule

मालूम हो कि इससे पहले पंचायत राज पदाधिकारी को प्रखंड समिति का प्रभार दिया गया था। इसके लिए सभी प्रखंडों में स्थायी या प्रभारी पंचायत राज पदाधिकारी तैनात किए गए हैं। चौधरी ने बताया कि पंचायती राज विभाग के नियंत्रणाधीन विभिन्न जिलों में पदस्थापित जिला पंचायत राज पदाधिकारी को अपने कार्यों के अतिरिक्त जिला परिषद अपर मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी का प्रभार दिया गया है।


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page