Follow Us On Goggle News

Bihar Land Mutation: दाखिल-खारिज को लेकर नया नियम होगा लागू, दाखिल-खारिज वाले मामलों का होगा अलग निपटारा.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Bihar Land Mutation: जमीन के दाखिल-खारिज में तेजी लाने के लिए राजस्व व भूमि सुधार विभाग ने व्यवस्था में बदलाव किया है। अब आपत्ति और गैर आपत्ति वाले मामलों का निपटारा अलग-अलग होगा। इसके लिए मामलों की अलग-अलग सूची बनाई जाएगी। इस बाबत विभाग ने सभी जिलों व अंचलों को दिशा-निर्देश दिया है। Bihar Land Mutation

जमीन के दाखिल-खारिज को सरल तरीके से कराने के लिए इसे सेवा का अधिकार अधिनियम में लाते हुए ऑनलाइन आवेदन की व्यवस्था की गई है। बावजूद इसके करीब 60 फीसदी मामलों में निर्धारित समय सीमा 35 दिन में दाखिल-खारिज के मामलों का निपटारा नहीं हो पाता है। हालांकि, किसी तरह की आपत्ति की स्थिति में इनके निपटारा के लिए अधिकतम 75 दिनों की समय सीमा निर्धारित है। अब विभाग ने सभी जिलों और अंचलों को यह निर्देश दिया है कि आपत्ति वाले दाखिल-खारिज के मामलों का निपटारा अलग करें। Bihar Land Mutation

यह भी पढ़ें :  Bihar Land Documents: जमीन का कागज़ कराना होगा डिजिटल, खतियान से लेकर जमाबंदी तक सब होगा डिजिटल.

हर माह आती हैं तीन दर्जन शिकायतें राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग को समय पर दाखिल-खारिज का निपटारा नहीं होने से संबंधित औसतन तीन दर्जन शिकायतें प्रत्येक महीने मिलती हैं। इसके मद्देनजर विभागीय स्तर पर यह व्यवस्था की गयी है। विभाग ने सभी सीओ समेत अन्य संबंधित पदाधिकारियों को खासतौर से हिदायत दी है कि वे दाखिल-खारिज से जुड़े मामलों का निपटारा हर हाल में निर्धारित समय में कर दें। Bihar Land Mutation

 

इसलिए की गई व्यवस्था: Bihar Land Mutation

आपत्ति और बिना आपत्ति वाले मामलों का निपटारा एक साथ करने के कारण पूरी प्रक्रिया कुछ मामलों के कारण रुक जाती है। डीसीएलआर से लेकर सीओ तक इन मामलों का निपटारा तेजी से या समय पर दिखाने के चक्कर में बिना जांच किये ही अधिकांश मामलों को रद्द कर देते है। इससे लोगों को अंचल कार्यालयों का चक्कर लगाना पड़ता है। Bihar Land Mutation

रोजाना आते हैं हजारों मामले: Bihar Land Mutation

  • 08 हजार औसतन आवेदन राज्य में रोजाना दाखिल-खारिज से जुड़े आते हैं
  • 50 से 55 फीसदी मामलों में किसी न किसी तरह की आपत्ति होती है
  • इस वजह से कई मामले अटक जाते हैं, जबकि कुछ रद्द कर दिये जाते हैं।
  • 2021 से इसे सेवा का अधिकार अधिनियम से जोड़ा गया था
  • 57 फीसदी ऑनलाइन आए आवेदन अब तक किए जा चुके हैं रद्द
  • 40 फीसदी आवेदन प्रक्रियाधीन, 03 का ऑनलाइन निपटारा किया गया है.
  • अब आपत्ति और गैर आपत्ति वाले मामलों की बनेगी अलग सूची. Bihar Land Mutation

इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page