Follow Us On Goggle News

बिना हेलमेट धड़ल्ले से घूमता है ये शख्स, पुलिस भी नहीं काट पाती चालान.

इस पोस्ट को शेयर करें :

इन दिनों पूरे देश में नए मोटर व्हीकल एक्ट को लेकर हंगामा मचा हुआ है। नए मोटर व्हीकल एक्ट के अंदर जिस हिसाब से जुर्माने की राशि को बढ़ाया गया है, उसको लेकर कई राज्यों में विरोध प्रदर्शन देखने को मिले हैं। इसको देखते हुए कई राज्यों ने तो चालान की राशि को कम कर दिया है।

 

 

इन सबके बीच गुजरात के अहमदाबाद के छोटा उदयपुर से एक बेहद ही हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां जाकिर मेमन नाम का ये शख्स सड़कों पर बिना हेलमेट के घूमता है और जब पुलिसवाले इसका चालान करने जाते हैं तो इसकी समस्या को सुन वो बहुत ज्यादा कन्फ्यूज हो जाते हैं।

zakir memon 5101706 m बिना हेलमेट धड़ल्ले से घूमता है ये शख्स, पुलिस भी नहीं काट पाती चालान.

 

सिर बड़ा होने की वजह से जाकिर नहीं पहन पाते हेलमेट :

दरअसल, जाकिर मेमन के साथ एक बहुत बड़ी समस्या है, जिस वजह से वो हेलमेट नहीं पहन पाते और इसलिए उन्हें बिना हेलमेट के ही सड़कों पर निकलना पड़ता है। जाकिर की हेलमेट ना पहनने की मजबूरी है उनका सिर, जो इतना बड़ा है कि वो हेलमेट ही नहीं पहन पाते। इस वजह से पुलिसवाले में भी कन्फ्यूज हो जाते हैं कि इस बंदे का चालान काटा जाए या नहीं।

यह भी पढ़ें :  Cheapest Sports Bike : 1.5 लाख की स्पोर्ट्स लुक वाली बाइक सिर्फ 80 हज़ार में ... जल्दी करें

 

 

पुलिस ने दुकानों पर ले जाकर किए कई हेलमेट टेस्ट :

सोमवार को जाकिर मेमन पुलिस के हत्थे चढ़ गए। पुलिस ने बिना हैलमेट गाड़ी चलाते हुए इन्हें पकड़ लिया। उसके पास गाड़ी से संबंधित सभी कागजात थे, लेकिन उसने हैलमेट नहीं पहना था। पुलिस ने उससे जुर्माना भरने को कहा, लेकिन ज़ाकिर ने जब अपनी समस्‍या उन्‍हें बताई तो उनकी उलझन बढ़ गई। ज़ाकिर ने बताया कि वह कोई भी हैलमेट पहन नहीं सकता, क्‍योंकि कोई भी हैलमेट उसके सिर में आता ही नहीं है।

 

 

अपनी समस्या को लेकर क्या कहना है जाकिर का?

जाकिर के साथ ये समस्या पिछले 12 साल से है। पुलिसवालों ने जाकिर को आसपास की कई दुकानों पर ले जाकर देखा कि उसके सिर में वाकई कोई हेलमेट आता नहीं है। अपनी इस समस्या के बारे में ज़ाकिर का कहना है कि मैं कानून की इज्‍जत करने वाला शख्‍स हूं, मैं भी हैलमेट पहनना चाहता हूं, लेकिन मुझे ऐसा हैलमेट मिलता ही नहीं, जो मेरे सिर में फिट आ सके।ज़ाकिर पेशे से फल विक्रेता हैं और उनका परिवार अब उनकी इस समस्‍या को लेकर चिंतित है। वह कहते हैं कि ऐेसे वह कब तक जुर्माना भरेंगे।

यह भी पढ़ें :  PM Corona Help : कोरोना की तीसरी लहर में मोदी सरकार दे रही 5000 रुपये ? यहाँ पढ़े पूरी जानकारी ...

 

ट्रैफिक पुलिस की ये है राय :

बोडेली के ट्रैफिक ब्रांच में सब इंस्‍पेक्‍टर वसंत राठवा का कहना है, ये एक अनोखी समस्‍या है। ज़ाकिर की समस्‍या को देखते हुए हम उनका चालान नहीं काटते हैं। वह कानून का सम्‍मान वाले शख्‍स हैं। उनके पास सभी वैध कागजात हैं, लेकिन हैलमेट की समस्‍या उनके साथ कुछ अनोखी है।

 

 

 


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page