Follow Us On Goggle News

Sawan 2nd Somwar : सावन के दूसरे सोमवार पर बना विशेष संयोग, ऐसे करें भगवान भोलेनाथ की पूजा ?

इस पोस्ट को शेयर करें :

भगवान भोलेनाथ की अराधना और पूजा करने से भक्त पर विशेष कृपा बनी रहती है. आज सावन के दूसरे सोमवार पर विशेष संयोग बन रहा है. जानिए कैसे करें अपने ईष्ट देव भोलेनाथ को प्रसन्न, क्या है पूजा का शुभ मुहूर्त.

इस दिन भगवान भोलेनाथ की अराधना और पूजा करने से भक्त पर विशेष कृपा बनी रहती है. सावन में भगवान शिव के पूजन और सोमवार के व्रत का विशेष महत्व है. कहते हैं कि सावन में सोमवार को व्रत रखने और भगवान शिव की पूजा से लड़कियों को मनचाहा वर मिलता है और सुहागिनों को अमर सुहाग प्राप्त होताा है. सावन के सोमवार के दिन भगवान शिव को बेलपत्र, धतूरा, भांग, सफेद फूल, दूध, सफेद चंदन, अक्षत् आदि अर्पित करने का विधान है. इस दिन बेलपत्र पर सफेद चंदन से राम-राम लिखकर शिवलिंग पर चढ़ाने से भी भगवान शिव अत्यंत प्रसन्न होते हैं.

आज सावन का दूसरा सोमवार है. इस दिन नवमी की तिथि और कृत्तिका नक्षत्र भी है. ऐसे में जिन जातकों की जन्म कुंडली में ग्रहण का योग बन रहा है वह अगर भगवान शिव की पूजा करते हैं तो उनकी कुंडली से अशुभता का नाश हो जाएगा. भगवान भोलेनाथ की पूजा अर्चना करने से जातक के जीवन में आने वाले सभी दुखों, परेशानियों का अंत हो जाएगा. जातक पर सदैव महादेव की कृपा बनी रहेगी. इस दिन चंद्रमा अपनी सबसे ऊंची राशि वृषभ में होगा. यह योग ज्योतिष शास्त्र में काफी शुभ माना गया है. वृद्धि योग में होने की वजह से यह काफी कल्याणकारी भी है.

यह भी पढ़ें :  Rashifal Today 3 August 2021 राशिफल : कर्क, सिंह तुला और धनु राशि वालों के लिए लाभदायक दिन

bholenath Sawan 2nd Somwar : सावन के दूसरे सोमवार पर बना विशेष संयोग, ऐसे करें भगवान भोलेनाथ की पूजा ?

आज विशेष शुभ मुहूर्त :

अभिजीत : 12:19 PM to 01:11 PM.
अमृत काल : 08:01 PM to 09:49 PM.
ब्रह्म मुहूर्त : 04:47 AM to 05:32 AM.
गोधुली मुहूर्त : 07:01 PM to 07:25 PM.

कैसे करें भगवान शिव की पूजा ? : सोमवार के दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर दैनिक क्रियाओं से निवृत्त होकर स्वच्छ जल से स्नान करें. स्वच्छ वस्त्र धारण करके पूजा घर या मंदिर जाएं, वहां भगवान शिव की मूर्ति या तस्वीर या फिर शिवलिंग हो तो सर्वोत्तम होगा, उसे स्वच्छ जल से धोकर साफ कर लें. फिर तांबे के लोटे या कांस्य के पात्र में जल भरें. फिर उसमें गंगा जल मिला लें. भगवान शिव का जलाभिषेक करें और उनको सफेद फूल, अक्षत्, भांग, धतूरा, सफेद चंदन, धूप आदि अर्पित करें. प्रसाद में फल और मिठाई चढाएं. भूलकर भी भगवान शिव को तुलसी का पत्र, हल्दी और केतकी का फूल कदापि न अर्पित करें. शिवलिंग (Shivling) पर बेलपत्र, धतूरा, भांग, जल और दूध अर्पित करने से से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं. भगवान शिवजी को हमेशा कांस्य और पीतल के बर्तन से जल चढ़ाना चाहिए.

यह भी पढ़ें :  Rashifal Today 22 August 2021 राशिफल : मेष, वृषभ, कर्क, कन्या, कुम्भ राशि वाले इन बातों को लेकर रहें सावधान.

जानिए कब-कब है सावन का सोमवार ?

पहला सोमवार: 26 जुलाई 2021 को था.
दूसरा सोमवार: 2 अगस्त 2021.
तीसरा सोमवार: 9 अगस्त 2021.
चौथा सोमवार: 16 अगस्त 2021.

भोलेनाथ की पूजा के लिए विशेष मंत्र : सावन के सभी सोमवार के दिन इन मंत्रों के साथ पूजा करें. परिवार पर भगवान भोलेनाथ की विशेष कृपा बनी रहेगी.

ॐ नमः शिवाय
ॐ ह्रीं ह्रौं नमः शिवाय
ॐ नमो भगवते दक्षिणामूर्त्तये मह्यं मेधा प्रयच्छ स्वाहा
नमो नीलकण्ठाय
ॐ पार्वतीपतये नमः
सावन के दूसरे सोमवार पर अद्भुत संयोग में आप भी भगवान भोलेनाथ की विधि विधान से पूजा अर्चना कर सुख, समृद्धि की प्राप्ति कर सकते हैं. इस दिन महादेव का जलाभिषेक करने से सभी दुखों से मुक्ति मिलेगी.

ganga jal Sawan 2nd Somwar : सावन के दूसरे सोमवार पर बना विशेष संयोग, ऐसे करें भगवान भोलेनाथ की पूजा ?

पूजा- विधि :

सुबह जल्दी उठ जाएं और स्नान आदि से निवृत्त होने के बाद साफ वस्त्र धारण करें.
घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें.
सभी देवी- देवताओं का गंगा जल से अभिषेक करें.
शिवलिंग में गंगा जल और दूध चढ़ाएं.
भगवान शिव को पुष्प अर्पित करें.
भगवान शिव को बेल पत्र अर्पित करें.
भगवान शिव की आरती करें और भोग भी लगाएं। इस बात का ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है.
भगवान शिव का अधिक से अधिक ध्यान करें.


इस पोस्ट को शेयर करें :

You cannot copy content of this page