Follow Us On Goggle News

Surya Grahan 2022 : आज लग रहा है साल का पहला सूर्य ग्रहण, जानिए भारत में कहां-कहां और कितने बजे दिखाई देगा.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Surya Grahan 2022 in India : इस साल 2022 का पहला सूर्य ग्रहण आज यानि 30 अप्रैल लगेगा. यह सूर्य ग्रहण कई मायने में बेहद खास होने वाला है. इस अवसर पर कई तरह के खास योग बन रहे हैं. भारतीय समय के अनुसार 30 अप्रैल की मध्यरात्रि 12 बजकर 15 मिनट से शुरू होगा और 1 मई को सुबह 4 बजकर 7 मिनट तक रहेगा. यह सूर्य ग्रहण आंशिक होगा.

 

Surya Grahan 2022 in India : भारत में इस साल का पहला सूर्य ग्रहण आज यानी 30 अप्रैल की मध्यरात्रि को लगने वाला है. सूर्य ग्रहण को वैदिक ज्योतिष में काफी महत्वपूर्ण माना गया है. आपको बता दें कि हिन्दू पंचांग के अनुसार, ये ग्रहण वैशाख मास की अमावस्या तिथि को घटित होगा. नासा के अनुसार, 30 अप्रैल के ग्रहण के दौरान, सूर्य की बिम्ब का 64 प्रतिशत हिस्सा चंद्रमा से अवरुद्ध हो जाएगा. साल का पहला सूर्य ग्रहण कल और दूसरा सूर्य ग्रहण 25 अक्टूबर, 2022 को लगेगा.

यह भी पढ़ें :  Rashifal Today 15 August 2021 राशिफल : 15 अगस्त का दिन इन राशियों के लिए रहेगा खुशियों से भरा, गुरु और शनि की वक्री से चाल से होगा लाभ.

 

कहां-कहां और कितने बजे दिखाई देगा सूर्य ग्रहण (Surya Grahan 2022 ) :

यह सूर्य ग्रहण अंटार्कटिका के अतिरिक्त अटलांटिक क्षेत्र, प्रशांत महासागर और दक्षिण अमेरिका के दक्षिणी पश्चिमी भागों में दिखाई देगा. लेकिन भारत में यह दिखाई नहीं देगा इसलिए भारत में इस ग्रहण का धार्मिक प्रभाव नहीं माना जाएगा और पूजा-पाठ और शादी विवाह में इससे किसी भी तरह की पाबंदियां नहीं होगी.

सूर्य ग्रहण का समय (Surya Grahan 2022 in India ) :

वर्ष 2022 का पहला सूर्य ग्रहण भारतीय समय के अनुसार रविवार 30 अप्रैल की मध्यरात्रि यानि रात 12 बजकर 15 मिनट से शुरू होगा और यह 1 मई सुबह 4 बजकर 7 मिनट तक रहेगा. ग्रहण की अवधि करीब 4 घंटे की होगी . यह सूर्य ग्रहण आंशिक होगा यानी चंद्रमा सूर्य के प्रकाश के केवल एक अंश को ही बाधित करेगा.

क्या होता हैआंशिक सूर्य ग्रहण (partial solar eclipse 2022) :

नासा के अनुसार, सूर्य ग्रहण तब होता है जब चंद्रमा सूर्य और पृथ्वी के बीच आ जाता है और पृथ्वी पर छाया डालता है. इस अवस्था में वो सूर्य के प्रकाश को पूरी तरह या आंशिक रूप से ढक लेता है. आंशिक ग्रहण के दौरान, चंद्रमा सूर्य को पूरी तरह से ढक नहीं पाता है. इसकी वजह से सूर्य अर्धचंद्राकार आकार में नजर आता है. आंशिक ग्रहण होने की वजह से चंद्रमा, सूर्य और पृथ्वी एक पूर्ण सीधी रेखा में नहीं होंगे. चन्द्रमा अपनी छाया का केवल बाहरी भाग ही सूर्य पर डालेगा, इसे उपछाया भी कहा जाता है.

यह भी पढ़ें :  Basant Panchami 2022 : बसंत पंचमी के दिन स्टूडेंट्स जरूर करें ये उपाय, बुद्धि और ज्ञान में होगी बढ़ोतरी.

सूतक काल मान्य नहीं (Surya Grahan 30 april 2022l) :

सूतक काल सूर्य ग्रहण शुरू होने से 12 घंटे पहले से लग जाता है. धार्मिक मान्यता के अनुसार सूतक काल के दौरान कोई भी शुभ या मांगलिक कार्य नहीं किया जाता है. भारत में ना दिखाई देने की वजह से इस सूर्यग्रहण का सूतक काल मान्य नहीं होगा.

 


इस पोस्ट को शेयर करें :
You cannot copy content of this page